बीमारी का बगैर दवाई भी इलाज़ है,मगर मौत का कोई इलाज़ नहीं दुनियावी हिसाब किताब है कोई दावा ए खुदाई नहीं लाल किताब है ज्योतिष निराली जो किस्मत सोई को जगा देती है फरमान दे के पक्का आखरी दो लफ्ज़ में जेहमत हटा देती है

Wednesday, 21 August 2019

आज 22/8/2019 का पंचांग व राशिफल



ऊं नमः शिवाय शिवजी सदा सहाय
ऊं नमः शिवाय गुरुजी सदा सहाय
ऊं नमः शिवाय श्री बालाजी सदा सहाय
आपका दिन मंगलमय हो
निशुल्क पंचांग अपने मोबाइल फोन पर मंगवाने के लिए9911342666 पर अपने अपने नाम के साथ शहर का नाम लिख कर व्हाट्सएप्प करे।🌞 ~ *आज का श्री बाला जी पंचांग* ~
⛅ *दिनांक 22 अगस्त 2019*
⛅ *दिन - गुरुवार*
⛅ *विक्रम संवत - 2076
⛅ *शक संवत -1941*
⛅ *अयन - दक्षिणायन*
⛅ *ऋतु - वर्षा*
⛅ *मास - भाद्रपद के अनुसार श्रावण)*
⛅ *पक्ष - कृष्ण*
⛅ *तिथि - षष्ठी सुबह 07:06 तक तत्पश्चात सप्तमी*
⛅ *नक्षत्र - भरणी 23 अगस्त रात्रि 02:33 तक तत्पश्चात कृत्तिका*
⛅ *योग - वृद्धि शाम 05:05 तक तत्पश्चात ध्रुव*
⛅ *राहुकाल - दोपहर 02:05 से शाम 03:40 तक*
⛅ *सूर्योदय - 06:20*
⛅ *सूर्यास्त - 19:02*
⛅ *दिशाशूल - दक्षिण दिशा में*
⛅ *व्रत पर्व विवरण - शीतला सप्तमी*
💥 *विशेष - षष्ठी को नीम की पत्ती, फल या दातुन मुँह में डालने से नीच योनियों की प्राप्ति होती है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)*
       🌞  पंचांग 🌞
🌷 *जन्माष्टमी* 🌷
🙏🏻 *ज्योतिष के अनुसार, अगर इस दिन भगवान श्रीकृष्ण को प्रसन्न करने के लिए विशेष उपाय किए जाएं तो माता लक्ष्मी भी प्रसन्न हो जाती हैं और भक्तों पर कृपा बरसाती हैं। ये उपाय करने से मनोकामना पूर्ति व धन प्राप्ति के योग भी बन सकते हैं।*
➡ *ये हैं जन्माष्टमी के अचूक 12 उपाय, 1 भी करेंगे तो होगा फायदा*
1⃣ *आमदनी नहीं बढ़ रही है या नौकरी में प्रमोशन नहीं हो रहा है तो जन्माष्टमी पर 7 कन्याओं को घर बुलाकर खीर या सफेद मिठाई खिलाएं। इसके बाद लगातार पांच शुक्रवार तक सात कन्याओं को खीर या सफेद मिठाई बांटें।*
2⃣ *जन्माष्टमी से शुरु कर 27 दिन लगातार नारियल व बादाम किसी कृष्ण मंदिर में चढ़ाने से सभी इच्छाएं पूरी हो सकती है।*
3⃣ *यदि पैसे की समस्या चल रही हो तो जन्माष्टमी पर सुबह स्नान आदि करने के बाद राधाकृष्ण मंदिर जाकर दर्शन करें व पीले फूलों की माला अर्पित  करें। इससे आपकी परेशानी कम हो सकती है।*
4⃣ *सुख-समृद्धि पाने के लिए जन्माष्टमी पर पीले चंदन या केसर से गुलाब जल मिलाकर माथे पर टीका अथवा बिंदी लगाएं। ऐसा रोज करें। इस उपाय से मन को शांति प्राप्त होगी और जीवन में सुख-समृद्धि आने के योग बनेंगे।*
5⃣ *लक्ष्मी कृपा पाने के लिए जन्माष्टमी पर कहीं केले के पौधे लगा दें। बाद में उनकी नियमित देखभाल करते रहे। जब पौधे फल देने लगे तो  इसका दान करें, स्वयं न खाएं।*
6⃣ *जन्माष्टमी पर भगवान श्रीकृष्ण को पान का पत्ता भेंट करें और उसके बाद इस पत्ते पर रोली (कुमकुम) से श्री यंत्र लिखकर तिजोरी में रख लें। इस उपाय से धन वृद्धि के योग बन सकते हैं।*
7⃣ *जन्माष्टमी पर भगवान श्रीकृष्ण को सफेद मिठाई या खीर का भोग लगाएं।इसमें तुलसी के पत्ते अवश्य डालें। इससे भगवान श्रीकृष्ण जल्दी ही प्रसन्न हो जाते हैं।*
8⃣ *जन्माष्टमी पर दक्षिणावर्ती शंख में जल भरकर भगवान श्रीकृष्ण का अभिषेक करें। इस उपाय से मां लक्ष्मी भी प्रसन्न होती हैं। ये उपाय करने वाले की हर इच्छा पूरी हो सकती है।*
9⃣ *कृष्ण मंदिर जाकर तुलसी की माला से नीचे लिखे मंत्र की 11 माला जप करें। इस उपाय से आपकी हर समस्या का समाधान हो सकताहै।*
*मंत्र- क्लीं कृष्णाय वासुदेवाय हरि:परमात्मने* *प्रणत:क्लेशनाशाय गोविंदय नमो नम:*
🔟 *भगवान श्रीकृष्ण को पीतांबर धारी भी कहते हैं, जिसका अर्थ है पीले रंग के कपड़े पहनने वाला। जन्माष्टमी पर पीले रंग के कपड़े, पीले फल व पीला अनाज दान करने से भगवान श्रीकृष्ण व माता लक्ष्मी दोनों प्रसन्न होते हैं।*
1⃣1⃣ *जन्माष्टमी की रात 12 बजे भगवान श्रीकृष्ण का केसर मिश्रित दूध से अभिषेक करें तो जीवन में सुख-समृद्धि आने के योग बनाते हैं।*
1⃣2⃣ *जन्माष्टमी को शाम के समय तुलसी को गाय के घी का दीपक लगाएं और ॐ वासुदेवाय नम: मंत्र बोलते हुए तुलसी की 11 परिक्रमा करें।*
         🌞  पंचांग*  🌞
 *जन्माष्टमी व्रत-उपवास की महिमा* 🌷
🙏🏻 *जन्माष्टमी का व्रत रखना चाहिए, बड़ा लाभ होता है ।इससे सात जन्मों के पाप-ताप मिटते हैं ।*
🙏🏻  *जन्माष्टमी एक तो उत्सव है, दूसरा महान पर्व है, तीसरा महान व्रत-उपवास और पावन दिन भी है।
 🙏🏻 *‘वायु पुराण’ में और कई ग्रंथों में जन्माष्टमी के दिन की महिमा लिखी है। ‘जो जन्माष्टमी की रात्रि को उत्सव के पहले अन्न खाता है, भोजन कर लेता है वह नराधम है’ - ऐसा भी लिखा है, और जो उपवास करता है, जप-ध्यान करके उत्सव मना के फिर खाता है, वह अपने कुल की 21 पीढ़ियाँ तार लेता है और वह मनुष्य परमात्मा को साकार रूप में अथवा निराकार तत्त्व में पाने में सक्षमता की तरफ बहुत आगे बढ़ जाता है । इसका मतलब यह नहीं कि व्रत की महिमा सुनकर मधुमेह वाले या कमजोर लोग भी पूरा व्रत रखें ।*
💥 *बालक, अति कमजोर तथा बूढ़े लोग अनुकूलता के अनुसार थोड़ा फल आदि खायें ।*
🙏🏻 *जन्माष्टमी के दिन किया हुआ जप अनंत गुना फल देता है ।*
🙏🏻 *उसमें भी जन्माष्टमी की पूरी रात जागरण करके जप-ध्यान का विशेष महत्त्व है। जिसको क्लीं कृष्णाय नमः मंत्र का और अपने गुरु मंत्र का थोड़ा जप करने को भी मिल जाय, उसके त्रिताप नष्ट होने में देर नहीं लगती ।*
🙏🏻 *‘भविष्य पुराण’ के अनुसार जन्माष्टमी का व्रत संसार में सुख-शांति और प्राणीवर्ग को रोगरहित जीवन देनेवाला, अकाल मृत्यु को टालनेवाला, गर्भपात के कष्टों से बचानेवाला तथा दुर्भाग्य और कलह को दूर भगानेवाला होता है।*
🌷 *कृष्ण नाम के उच्चारण का फल* 🌷
 🙏🏻 *ब्रह्मवैवर्तपुराण के अनुसार*
*नाम्नां सहस्रं दिव्यानां त्रिरावृत्त्या चयत्फलम् ।।*
*एकावृत्त्या तु कृष्णस्य तत्फलं लभते नरः । कृष्णनाम्नः परं नाम न भूतं न भविष्यति ।।*
*सर्वेभ्यश्च परं नाम कृष्णेति वैदिका विदुः । कृष्ण कृष्णोति हे गोपि यस्तं स्मरति नित्यशः ।।*
*जलं भित्त्वा यथा पद्मं नरकादुद्धरेच्च सः । कृष्णेति मङ्गलं नाम यस्य वाचि प्रवर्तते ।।*
*भस्मीभवन्ति सद्यस्तु महापातककोटयः ।* *अश्वमेधसहस्रेभ्यः फलं कृष्णजपस्य च ।।*
*वरं तेभ्यः पुनर्जन्म नातो भक्तपुनर्भवः । सर्वेषामपि यज्ञानां लक्षाणि च व्रतानि च ।।*
*तीर्थस्नानानि सर्वाणि तपांस्यनशनानि च ।* *वेदपाठसहस्राणि प्रादक्षिण्यं भुवः शतम् ।।*
*कृष्णनामजपस्यास्य कलां नार्हन्ति षोडशीम् । (ब्रह्मवैवर्तपुराणम्, अध्यायः-१११)*
🙏🏻 *विष्णुजी के सहस्र दिव्य नामों की तीन आवृत्ति करने से जो फल प्राप्त होता है; वह फल ‘कृष्ण’ नाम की एक आवृत्ति से ही मनुष्य को सुलभ हो जाता है। वैदिकों का कथन है कि ‘कृष्ण’ नाम से बढ़कर दूसरा नाम न हुआ है, न होगा। ‘कृष्ण’ नाम सभी नामों से परे है। हे गोपी! जो मनुष्य ‘कृष्ण-कृष्ण’ यों कहते हुए नित्य उनका स्मरण करता है; उसका उसी प्रकार नरक से उद्धार हो जाता है, जैसे कमल जल का भेदन करके ऊपर निकल आता है। ‘कृष्ण’ ऐसा मंगल नाम जिसकी वाणी में वर्तमान रहता है, उसके करोड़ों महापातक तुरंत ही भस्म हो जाते हैं। ‘कृष्ण’ नाम-जप का फल सहस्रों अश्वमेघ-यज्ञों के फल से भी श्रेष्ठ है; क्योंकि उनसे पुनर्जन्म की प्राप्ति होती है; परंतु नाम-जप से भक्त आवागमन से मुक्त हो जाता है। समस्त यज्ञ, लाखों व्रत तीर्थस्नान, सभी प्रकार के तप, उपवास, सहस्रों वेदपाठ, सैकड़ों बार पृथ्वी की प्रदक्षिणा- ये सभी इस ‘कृष्णनाम’- जप की सोलहवीं कला की समानता नहीं कर सकते*
🌷 *ब्रह्माण्डपुराण, मध्यम भाग, अध्याय 36 में कहा गया है :*
*महस्रनाम्नां पुण्यानां त्रिरावृत्त्या तु यत्फलम् ।*
*एकावृत्त्या तु कृष्णस्य नामैकं तत्प्रयच्छति ॥१९॥*
🙏🏻 *विष्णु के तीन हजार पवित्र नाम (विष्णुसहस्त्रनाम) जप के द्वारा प्राप्त परिणाम ( पुण्य ), केवलएक बार कृष्ण के पवित्र नाम जप के द्वारा प्राप्त किया जा सकता है
आज का राशिफल🕉
मेष- आज का दिन अच्छे परिणाम देगा। कुछ मामूली झटकों के बावजूद आप अच्छी प्रगति करेंगे। आपको व्यवसाय में उत्कृष्ट परिणाम मिलेंगे। नौकरी की तलाश में हैं तो आपको सफलता मिलेगी। यदि एक बदलाव की तलाश है तो आपको थोड़े और प्रयास के साथ एक बेहतर काम मिलेगा। पारिवारिक जीवन आनंदमय रहेगा और रिश्तेदारों से मेल मिलाप संभव  है। दोस्तों के साथ किसी  तीर्थ स्थल पर जाने की योजना बन सकती है।
वृष- छात्रों के लिए यह दिन शुभ है। छात्र प्रतियोगिताओं में अच्छा करेंगे और अपने इच्छित संस्थान में प्रवेश प्राप्त कर सकेंगे। पारिवारिक जीवन सुचारु रहेगा। कमीशन, वाहनों से संबंधित व्यवसाय और कृषि से अतिरिक्त आय प्राप्त कर सकते हैं। नौकरीपेशा जातकों को कार्य स्थल पर बहुत अधिक तनाव और दबाव कुछ बेचैन कर सकता हैं। सहयोगियों के विश्वास प्राप्त कर आप आने वाले दिनों में शुभ प्रगति कर पाएंगे। मानसिक तनाव के कारण स्वास्थ्य अस्थिर रह सकता है। आराम करने के लिए पर्याप्त समय लें।
मिथुन-  किसी करीबी सहयोगी से समस्या हो सकती है। कार्य से संबंधित यात्राएं वांछित परिणाम नहीं दे पाएंगे। नए कार्यस्थल पर जुड़ने या नई परियोजनाओं और उपक्रमों को शुरू करने के लिए दिन ज्यादा अनुकूल नहीं है। कार्य स्थल पर झगड़े और टकराव से बचने की कोशिश करनी चाहिए। प्रेमयुक्त संपर्क यदि कोई हो, तो यह एक बुरा मोड़ ले सकता है और आप में से कुछ लोग बदनामी और अपमान का शिकार हो सकते हैं। पारिवारिक सन्दर्भ में भावनात्मक रूप से आप कुछ परेशान कर सकते हैं। जीवनसाथी या संतान के अस्वस्थ होने के कारण कुछ  चिंता हो सकती है।
कर्क- विदेशी व्यापार संबंधित सौदों के अंतिम रूप देने के लिए यात्रा की योजना फिर से शुरू होगी। आपको अपने विदेशी संपर्कों से लाभ प्राप्त होने की प्रबल संभावना है।किन्तु अचानक वित्तीय संकट सतह पर आ सकता है। आपका भागिदार  आपकी अशांति का स्रोत होगा। अपने मिजाज और संयम पर नियंत्रण रखें । अपनी नियमित दिनचर्या का पालन करें। हालांकि, पारिवारिक सदस्यों की गंभीर टिप्पणियां स्वाभाविक रूप से आपको परेशान कर सकती हैं।
सिंह- आज आपको अपने शब्दों के चयन के प्रति अति सावधानी  बरतनी चाहिए क्योंकि इससे रिश्ते खराब हो सकते हैं। पारिवारिक एव व्व्यवासयिक सन्दर्भ में मनमुटाव हो सकता है। आपके जीवनसाथी का स्वास्थ्य गंभीर चिंता का कारण बन सकता है। वित्तीय मामलों में आपको कुछ समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है। आप करीबी रिश्तेदारों के साथ विवादों में भाग सकते हैं और आपके दुश्मन भी आपको कुछ परेशानियाँ दे सकते हैं। नया उद्यम शुरू करने या अटकलों के लिए समय अच्छा नहीं है । नुकसान होने की संभावना है।
कन्या -आप कुछ चुनौतियों का सामना करेंगे, लेकिन अंततः चीजें आपके पक्ष में होंगी। दिन-प्रतिदिन की गतिविधियों पर अपना ध्यान केंद्रित करें और सकारात्मक बातचीत स्थापित करने के लिए कदम उठाएं। निवेश करने के लिए आवेगी निर्णय न लें। यदि पैतृक संपत्ति के संबंध में कोई भी लंबित मामला है, तो उसे सौहार्दपूर्ण ढंग से हल करने का प्रयास करें, यह आपकी संतुष्टि के लिए होगा। अपनी सेहत का ध्यान न रखें। उत्तरार्ध में कार्य से संबंधित यात्रा नए अवसरों को खोलेगी। दोस्त और परिवार आसपास रैली करेंगे और आपको पूरा सहयोग देंगे।
तुला - आज का दिन आपको चौतरफा खुशी दे सकता है। व्यावसायिक रूप से आप सक्रिय और सतर्क रहेंगे। ज्ञान और जानकारी इकट्ठा करने के सन्दर्भ में अच्छी प्रगति करेंगे। विदेशों संपर्कों से आर्थिक लाभ संभव है से आपको लाभ मिलेगा। पारिवारिक सदस्यों से साथ व्यवहार करते समय आपको इस बात का ध्यान रखना चाहिए कि आप उन्हें भ्रमित न करें अन्यथा आपको इसके दुष्परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं। आपके जीवनसाथी का स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है।
वृश्चिक - व्यावसायिक लोगों के लिए आकस्मिक लाभ का प्रवाह हो सकता हैI इसके परिणामवश आप अपने व्यवसाय सम्बंधित समस्याओं को हल करने में पहल और अधिक रुचि ले सकते हैं। साझेदारी से आपके लिए कुछ बेहतरीन प्रोत्साहन मिल सकते हैं, जो आपकी वित्तीय स्थिति को काफी मजबूत कर सकते हैं। बच्चे जो भी कार्य करेंगे, चाहे पढ़ाई हो अथवा कोई भी अतिरिक्त गतिविधि- वे हर जगह प्रशंसा अर्जित कर पायेंगे। किसी बुजुर्ग पारिवारिक सदस्य का गिरता स्वास्थ्य आपकी चिंता का विषय हो सकता है।
धनु - आर्थिक परिवेश में आज कुछ के लिए विस्तार और लाभ के मार्ग प्रशस्त रहेंगे। विदेशी कनेक्शन स्थापित करने के इच्छुक लोगों को सफलता के लिए अथक प्रयास करना पड़ सकता है।छात्रों को  आपको अपने शैक्षिक और व्यावसायिक कौशल को बढ़ाने के अवसर मिलेंगे।वित्तीय मामलों के लिए दिन अच्छा है। निवेश और बचत की योजनाएं भी बनाई जाएंगी। जीवनसाथी के साथ आप कही बाहर घूमने जा सकते हैं। संतान प्राप्ति एव संतान का विवाह सम्बन्ध पक्का होने से परिवार में ख़ुशी का माहौल रहेगा
मकर- कार्य सुगमता से आगे बढ़ेंगे और स्थितियां आपके पक्ष में होंगी। लेखन, साहित्य, कला, संगीत, सिनेमा, टीवी आदि से जुड़े लोग अपनी प्रतिभा से पहचान बनाएंगे। वित्तीय मामले बिना किसी बाधा के आसानी से आगे बढ़ेंगे। पारिवारिक जीवन सामंजस्यपूर्ण रहेगा और उत्सव हो सकता है। रिश्तेदारों  से एक बड़ा उपहार प्राप्त कर सकते हैं। यात्राएँ लाभदायक रहेंगी  किन्तु थकावट के कारण स्वास्थ्य बिगड़ सकता है।
कुंभ - आप धार्मिक विचारों वाले होंगे और कुछ पवित्र कर्म करेंगे, जिसके लिए आपकी सामाजिक लोकप्रियता बढ़ेगी। आपका पारिवारिक-जीवन आनंदित रहेगा और आप मानसिक रूप से शांत रहेंगे। आप दूसरों के लिए मददगार होंगे और लोग इसके लिए आपका बहुत सम्मान करेंगे। आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा और आपको सह्कर्मियों से पूर्ण सहयोग और समर्थन प्राप्त होगा। आप नया उद्यम शुरू करने में भी  सफल हो सकते हैं। आप आर्थिक स्तर में तेजी से वृद्धि संभव है  और आपकी कुछ पोषित इच्छाएं पूरी होंगी
मीन- यदि आप सहयोग लेने के इच्छुक हैं तो आपके वरिष्ठ आपकी हर संभव सहायता करेंगे। साझेदार आपका भरपूर समर्थन करेंगे और आप आर्थिक लाभ के अवसर प्राप्त कर पाएंगे। कुछ नए परिचितों द्वारा धोखा खाने से बचने के लिए अपने विकल्पों को समझदारी से चुनें। पारिवारिक जीवन तनाव से भरा हो सकता है, लेकिन आपको स्थिति को चतुराई से निपटना होगा। स्थिति अपने नियंत्रण में करनी होगी और मन की शांति प्राप्त करनी होगी। कुल मिलाकर आज आपको व्यक्तिगत और मौद्रिक मामलों में संतुलन बनाने का प्रयास करना चाहिए।

जिनका आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं
💜आज जिनका जन्मदिन💜
दिनांक 22 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 4 होगा। इस अंक से प्रभावित व्यक्ति जिद्दी, कुशाग्र बुद्धि वाले, साहसी होते हैं। ऐसे व्यक्ति को जीवन में अनेक परिवर्तनों का सामना करना पड़ता है। जैसे तेज स्पीड से आती गाड़ी को अचानक ब्रेक लग जाए ऐसा उनका भाग्य होगा। लेकिन यह भी निश्चित है कि इस अंक वाले अधिकांश लोग कुलदीपक होते हैं। आपका जीवन संघर्षशील होता है। इनमें अभिमान भी होता है। ये लोग दिल के कोमल होते हैं किन्तु बाहर से कठोर दिखाई पड़ते हैं। इनकी नेतृत्व क्षमता के लोग कायल होते हैं।

शुभ दिनांक : 4, 8, 13, 22, 26, 31

शुभ अंक : 4, 8,18, 22, 45, 57

शुभ वर्ष : 2016, 2020, 2031, 2040, 2060 

ईष्टदेव : श्री गणेश, श्री हनुमान,

शुभ रंग : नीला, काला, भूरा

कैसा रहेगा यह वर्ष
यह वर्ष पिछले वर्ष के दुष्प्रभावों को दूर करने में सक्षम है। आपको सजग रहकर कार्य करना होगा। परिवारिक मामलों में सहयोग के द्वारा सफलता मिलेगी। मान-सम्मान में वृद्धि होगी, वहीं मित्र वर्ग का सहयोग मिलेगा। नवीन व्यापार की योजना प्रभावी होने तक गुप्त ही रखें। शत्रु पक्ष पर प्रभावपूर्ण सफलता मिलेगी। नौकरीपेशा प्रयास करें तो उन्नति के चांस भी है। विवाह के मामलों में आश्चर्यजनक परिणाम आ सकते हैं।

Posted By Lal Kitab Anmol14:40

आज 21 अगस्त 2019 श्री बालाजी पंचांग राशिफल

अंतर्गत लेख:

ऊं नमः शिवाय शिव जी सदा सहाय
ऊं नमः शिवाय गुरुजी सदा सहाय
ऊं नमः शिवाय श्री बालाजी सदा सहाय

निशुल्क पंचांग अपने मोबाइल फोन पर मंगवाने के लिए9911342666 पर अपने अपने नाम के साथ शहर का नाम लिख कर व्हाट्सएप्प करे।
🌞 ~ आज का श्री बालाजी पंचांग ~
⛅ दिनांक 21 अगस्त 2019
⛅ दिन - बुधवार
⛅ *विक्रम संवत - 2076
⛅ शक संवत -1941
⛅ अयन - दक्षिणायन
⛅ ऋतु - वर्षा
⛅ मास - भाद्रपद (के अनुसार श्रावण)
⛅ पक्ष - कृष्ण
⛅ तिथि - षष्ठी पूर्ण रात्रि तक
⛅ नक्षत्र - अश्विनी रात्रि 12:48 तक तत्पश्चात भरणी
⛅ योग - गण्ड शाम 04:58 तक तत्पश्चात वृद्धि
⛅ राहुकाल - दोपहर 12:30 से दोपहर 02:05 तक
⛅ सूर्योदय - 06:19
⛅ सूर्यास्त - 19:04
⛅ दिशाशूल - उत्तर दिशा में
⛅ व्रत पर्व विवरण - रांधण - हल षष्ठी, षष्ठी वृद्धि तिथि
💥 विशेष - षष्ठी को नीम की पत्ती, फल या दातुन मुँह में डालने से नीच योनियों की प्राप्ति होती है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)
       🌷 जन्माष्टमी 🌷
🙏🏻  भारतवर्ष में रहनेवाला जो प्राणी श्रीकृष्ण जन्माष्टमी का व्रत करता है, वह सौ जन्मों के पापों से मुक्त हो जाता है | - ब्रह्मवैवर्त पुराण
       🌷 गर्भवती देवी के लिये–जन्माष्टमी व्रत 🌷
👩🏻 *जो गर्भवती देवी जन्माष्टमी का व्रत करती हैं..... उसका गर्भ ठीक से पेट में रह सकता है और ठीक समय जन्म होता है..... ऐसा भविष्यपुराण में लिखा है |
 हजार एकादशी का फल देनेवाला व्रत 🌷
🙏 जन्माष्टमी के दिन किया हुआ जप अनंत गुना फल देता है । उसमें भी जन्माष्टमी की पूरी रात, जागरण करके जप-ध्यान का विशेष महत्व है ।
🙏 भविष्य पुराण में लिखा है कि जन्माष्टमी का व्रत अकाल मृत्यु नहीं होने देता है । जो जन्माष्टमी का व्रत करते हैं, उनके घर में गर्भपात नहीं होता ।
🙏 एकादशी का व्रत हजारों - लाखों पाप नष्ट करनेवाला अदभुत ईश्वरीय वरदान है लेकिन एक जन्माष्टमी का व्रत हजार एकादशी व्रत रखने के पुण्य की बराबरी का है ।
🙏 एकादशी के दिन जो संयम होता है उससे ज्यादा संयम जन्माष्टमी को होना चाहिए ।
बाजारु वस्तु तो वैसे भी साधक के लिए विष है लेकिन जन्माष्टमी के दिन तो चटोरापन, चाय, नाश्ता या इधर - उधर का कचरा अपने मुख में न डालें ।
🙏 *इस दिन तो उपवास का आत्मिक अमृत पान करें ।अन्न, जल, तो रोज खाते - पीते रहते हैं, अब परमात्मा का रस ही पियें । अपने अहं को खाकर समाप्त कर दें
🕉आज का राशिफल🕉
मेष- दिन शुभ रहेगा। सब कुछ अपनी सामान्य गति से काम करेगा। नौकरीपेशा जातकों के लिए नवीन अवसर प्राप्ति के लिए अच्छा समय है। नए परिचित अथवा नवीन सौदे चिंता का कारण बन सकते हैं। कोई आपके लिए आर्थिक रूप से समस्या खड़ी कर सकता है। मातृ संबंध आपको कुछ अप्रत्याशित तरीके से अत्यधिक लाभ दिला सकते हैं। अनैतिक संबंधो के कारण आपकी छवि धूमिल हो सकती है। आध्यात्मिक खोज आपको अपना खोया हुआ आत्मविश्वास वापस पाने में मदद कर सकती है।
वृष- आपको चुनौतियों का सामना करना पड़ सकता है। महत्वपूर्ण निर्णय सोच -विचार के बाद ही लिया जाना चाहिए। प्रतिद्वंद्वी काफी सक्रिय रहेंगे किन्तु वह आपको कोई नुकसान नहीं पहुंचा पाएंगे। आप सामाजिक रूप से सक्रिय रहेंगे और आज कुछ महत्वपूर्ण संपर्क भी स्थापित किए जा सकते हैं। आपके लिए किसी प्रियजन का स्वास्थ्य चिंता का कारण बना सकता है। आपको अपने जीवनसाथी का सहयोग प्राप्त होगा। शुभ स्वास्थ्य हेतु योग और ध्यान को अपनाएं।
मिथुन-  शुभ परिणाम की प्राप्ति संभव है। आप सकारात्मक सोच रखेंगे। आप लोगों को प्रभावित करने के लिए अपने संचार कौशल का उपयोग करेंगे। नौकरीपेशा जातक पदोन्नति प्राप्त कर सकते हैं। कुछ के लिए वांछित स्थानांतरण भी हो सकते हैं। यदि आप अपना स्वयं का व्यवसाय कर रहे हैं, तो विस्तार योजनाओं को लागू करने के लिए अच्छा समय है। आर्थिक लाभ होगा और आप भौतिक वस्तुओं पर भी खर्च करेंगे। यात्रा लाभकारी होगी। आपको अपने दोस्तों का सहयोग समय-समय पर मिलता रहेगा। पारिवारिक जीवन सामान्य रहेगा।
कर्क- आपके लिए दिन अच्छा नहीं बीतेगा। पारिवारिक जीवन में भाई बहनों से विवाद के कारण अस्थिरता हो सकती है। प्रेम सम्बन्ध यथावत रहेंगे। समर्पित परिश्रम से यदि आप वरिष्ठों को संतुष्ट कर सकते हैं। यदि आप अपना दृष्टिकोण बदल सकते हैं और ईमानदारी से काम कर सकते हैं तो आपकी रैंक, पारिश्रमिक और लोकप्रियता बढ़ जाएगी। आपको आर्थिक लाभ भी प्राप्त हो सकता है। आपको मनोगत और रहस्यवादी विषयों के अध्ययन के प्रति शौक विकसित कर सकते हैं।
सिंह- आप सरकार से किसी भी प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष तरीके से लाभ प्राप्त कर सकते हैं। यदि आप समय पर अवसर का पूर्ण रूप से उपयोग कर लेते हैं, तो आपका व्यावसायिक जीवन आपको भविष्य में अत्यधिक लाभ प्रदान कर सकता है। जीवनसाथी के स्वास्थ्य पर पर भारी खर्च हो सकता है। मंदिर में कुछ दान करने से आर्थिक नुकसान से बचने में मदद मिल सकती है। अपने धन संबंधी मामलों पर ध्यान रखें अन्यथा कुछ लाभ हानि में परिवर्तित हो सकते हैं। आपको संपत्ति से जुड़े फैसले नहीं करने हैं या आपको परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।
कन्या- आप अच्छे स्वास्थ्य का आनंद लेंगे और पारिवारिक जीवन खुहशाल रहेगा। आय में वृद्धि संभव हैI आपके पास नए अधिग्रहण होंगे जो आपकी सामाजिक स्थिति में सुधार करेंगे और आपकी संतुष्टि को बढ़ाएंगे। रिश्तेदारों और दोस्तों के साथ आपके संबंधों में सुधार होगा। इस अवधि में चीजें आपके पक्ष में होंगी। अवसर आपके रास्ते में आएंगे और आप विवेकपूर्ण तरीके से उनका समय पर उपयोग करेंगे। सामाजिक रूप से आप अधिक लोकप्रियता और प्रतिष्ठा प्राप्त करेंगे।
तुला- दिन काफी विवादास्पद साबित हो सकता है। आपको अपने वरिष्ठों की उपेक्षा का सामना करना पड़ेगा और आपके सहयोगी आपकी कमजोरियों को भुनाने और खेल बिगाड़ने का काम करेंगे। इसलिए, इस चरण में आपको अपने सहकर्मियों के साथ अपनी योजनाओं या अपनी महत्वाकांक्षा का खुलासा या चर्चा नहीं करनी चाहिए। जहां तक संभव हो अपना समय किताबों की कंपनी में बिताएं। पारिवारिक जीवन और स्वास्थ्य सामान्य रहेगा।
वृश्चिक- नियोजित कार्य बहुत अधिक परिणाम नहीं दिखाएगा, किन्तु परिणाम जो भी हों, सकारात्मक होंगे। आर्थिक लाभ प्राप्त करने के लिए दिन शुभ है। यदि आपने किसी को पैसे उधार दिए थे तो यह आपके लिए सौहार्दपूर्ण समझौता करना श्रेयकर रहेगा। कोर्ट के बाहर मुकदमे का निपटारा होगा। नौकरीपेशा जातकों का कार्यस्थल पर किसी बुजुर्ग महिला के साथ भी झगड़ा हो सकता है। पारिवारिक और सामाजिक सम्बन्ध मजबूत होंगे।और आप नए दोस्त भी बनाएंगे।
धनु- भावनात्मक फैसलों के लिए बहुत अच्छा समय नहीं है, क्योंकि इस अवधि के दौरान आप जो भी निर्णय लेंगे, उसे पूरा करना मुश्किल होगा। आप अपनी मनोदशा और आत्मविश्वास में गिरावट का अनुभव कर सकते हैं। इस समय अपना साहस बटोरें तथा समय का अधिकतम लाभ उठाएं। आज आपके लिए पारिवारिक सदस्यों का व्यवहार पहेली बन सकता है। सामुदायिक और साझेदारी के कार्य सुचारू रूप से आगे बढ़ेंगे और आप अपने व्यक्तिगत शिखर पर होंगे। आर्थिक दृष्टि से चीजें यथावत रहेंगी।
मकर- आपकी नौकरी के हालात में सुधार संभव है। किन्तु स्वास्थ्य संबंधी परेशानियां रह सकती हैं। कार्यस्थल में आपका विरोध हो सकता है। व्यापारिक एव व्यावसायिक सन्दर्भ में विरोधी प्रतिष्ठा बिगाड़ने की चेष्टा कर सकते हैं। सावधान रहें। आपको अपने भाई बहनों से सहायता मिलेगी। पुराने मित्रों से मुलाकात हो सकती है। छोटी यात्राओं से अच्छा फल मिलेगा।
कुंभ- आपको नौकरी या काम-काज से जुड़े कई नए विकल्प मिल सकते हैं। हालांकि, जल्दबाज़ी में निर्णय लेने से आपको बचना चाहिए। व्यापारिक सन्दर्भ में आप कार्य विस्तार योजनायों को अमली जामा पहनाने के लिए अपनी तरफ़ से पूरी कोशिश करेंगे। किए गए वादों को निभाएं और दूसरों पर विश्वास करें। ये अपनी क्षमताओं को दिखाने का सही समय है। ब्रेक-अप से बचने के लिए एक-दूसरे का यक़ीन न तोड़ें। साथ ही अपने प्रियजनों के साथ थोड़ा ज़्यादा समय बिताने की कोशिश करें। नाक, कान और गले से जुड़े रोगों से बचें। मेहनत और लगन से आप आने वाले दिनों में जो चाहे, वह हासिल कर सकते हैं।
मीन- छात्रों के लिए यह दिन शुभ है। छात्र प्रतियोगिताओं में अच्छा करेंगे और अपने इच्छित संस्थान में प्रवेश प्राप्त कर सकेंगे। पारिवारिक जीवन सुचारु रहेगा। आप कमीशन, वाहनों से संबंधित व्यवसाय और कृषि से अतिरिक्त आय प्राप्त कर सकते हैं। नौकरीपेशा जातकों को कार्य स्थल पर बहुत अधिक तनाव और दबाव कुछ बेचैन कर सकता हैं। सहयोगियों के विश्वास प्राप्त कर आप आने वाले दिनों में शुभ प्रगति कर पाएंगे। मानसिक तनाव के कारण स्वास्थ्य अस्थिर रह सकता है। आराम करने के लिए पर्याप्त समय लें।
आज जिनका जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं
अंक ज्योतिष के अनुसार आपका मूलांक तीन आता है। यह बृहस्पति का प्रतिनिधि अंक है। ऐसे व्यक्ति निष्कपट, दयालु एवं उच्च तार्किक क्षमता वाले होते हैं। अनुशासनप्रिय होने के कारण कभी-कभी आप तानाशाह भी बन जाते हैं। आप दार्शनिक स्वभाव के होने के बावजूद एक विशेष प्रकार की स्फूर्ति रखते हैं। आपकी शिक्षा के क्षेत्र में पकड़ मजबूत होगी। आप एक सामाजिक प्राणी हैं। आप सदैव परिपूर्णता या कहें कि परफेक्शन की तलाश में रहते हैं यही वजह है कि अक्सर अव्यवस्थाओं के कारण तनाव में रहते हैं।

शुभ दिनांक : 3, 12, 21, 30

शुभ अंक : 1, 3, 6, 7, 9
शुभ वर्ष : 2019, 2028, 2030, 2031, 2034, 2043, 2049, 2052

ईष्टदेव : देवी सरस्वती, देवगुरु बृहस्पति, भगवान विष्णु

शुभ रंग : पीला, सुनहरा और गुलाबी

कैसा रहेगा यह वर्ष
यह वर्ष आपके लिए अत्यंत सुखद है। किसी विशेष परीक्षा में सफलता मिल सकती है। नौकरीपेशा के लिए प्रतिभा के बल पर उत्तम सफलता का है। नवीन व्यापार की योजना भी बन सकती है। दांपत्य जीवन में सुखद स्थिति रहेगी। घर या परिवार में शुभ कार्य होंगे। मित्र वर्ग का सहयोग सुखद रहेगा। शत्रु वर्ग प्रभावहीन होंगे। महत्वपूर्ण कार्य से यात्रा के योग भी है।

Posted By Lal Kitab Anmol01:48

Tuesday, 20 August 2019

आज का श्री बालाजी पंचांग

अंतर्गत लेख:

lka 20/08/2019 

ऊं नमः शिवाय शिवजी सदा सहाय
ऊं नमः शिवाय गुरुजी सदा सहाय
ऊं नमः शिवाय श्री बालाजी सदा सहाय
आपका दिन मंगलमय हो
निशुल्क पंचांग अपने मोबाइल फोन पर मंगवाने के लिए 9911342666 पर अपने नाम के साथ मेंशहर का नाम लिख कर व्हाट्सएप्प करे।🌞 ~ आज का श्री बालाजी पंचांग ~
⛅ दिनांक 20 अगस्त 2019
⛅ दिन - मंगलवार
⛅ *विक्रम संवत - 2076
⛅ शक संवत -1941
⛅ अयन - दक्षिणायन
⛅ ऋतु - वर्षा
⛅ मास - भाद्रपद (के अनुसार श्रावण)
⛅ पक्ष - कृष्ण
⛅ तिथि - पंचमी 21 अगस्त प्रातः 05:30 तक तत्पश्चात षष्ठी
⛅ नक्षत्र - रेवती रात्रि 10:29 तक तत्पश्चात अश्विनी
⛅ योग - शूल दोपहर 04:29 तक तत्पश्चात गण्ड
⛅ राहुकाल - शाम 04:41 से शाम 05:17 तक
⛅ सूर्योदय - 06:19
⛅ सूर्यास्त - 19:04
⛅ दिशाशूल - उत्तर दिशा में
⛅ व्रत पर्व विवरण - नाग पंचमी (राजस्थान की परम्परा के अनुसार), रक्षा पंचमी (ओड़िशा), मंगलागौरी पूजन, माधवदेव तिथि  (असम)
💥 विशेष - पंचमी को बेल खाने से कलंक लगता है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)
🌷 जवानी में बाल सफ़ेद हो गए हो तो 🌷
👦🏼 जवानी में जिनके बाल सफ़ेद हो जाते हैं  उनको चाहिए कि कोरा आवंले का पाऊडर ( मिश्री मिला हुआ नहीं ) ..अपना पानी पीने का जो घड़ा हो..छोटा सा वो अलग रखें उसमें एक चम्मच पाऊडर डाल दें ..जब भी प्यास लगे वो ही पानी पियें ..तो जवानी या बचपन में जिनके बाल सफ़ेद हो जाते हैं ..वो फिर से अपना रंग दिखायेंगे |
 अनिद्रा 🌷
👉🏻 अनिद्रा के चार कारण हैं -
1⃣ कफ की कमी
2⃣ दूसरे का हक छीनना
3⃣ व्यर्थ की चिंता
4⃣ कुछ रोगों के कारण
🌿 (1) हरा धनिया का रस व मिश्री मिलाकर " ॐ हंसं हंसः " १०८ बार जप करके पी लें ।
🐄 (2) गाय का घी सिर व पैरों के तलवों पर मलें ।
🐃 (3) भैंस के दूध से बनी लस्सी दोपहर को पियें ।थोड़ी शक्कर डालके ... पर जोड़ो का दर्द हो, तो लस्सी में खटास होगी तो तकलीफ़ करेगी ... वे लोग न लें ।
🙏🏻  (4) "शुद्धे शुद्धे महायोगिनी महानिद्रे स्वाहा" इस मंत्र का जप सोते समय प्रेम पूर्वक करें।🙏
🕉आज का राशिफल🕉
मेष- अपने स्वास्थ्य को लेकर सतर्कता बरतें। प्रेम संबंधों के मध्य ग़लतफहमी न पनपने दें। यदि आपका अत्यधिक मौज-मस्ती का स्वभाव है तो सावधान हो जाएं अन्यथा किसी स्कैंडल में फँस सकते हैं।  गुप्त शत्रु परेशान करेंगे। किसी समस्या या विवाद को सुलझाने में अत्यधिक धन खर्च हो सकता है। व्यापारियों के लिए अचानक और अप्रत्याशित धन प्राप्ति की सम्भावना बन रही है। आज आप उच्च अधिकारियों या समाज के उच्च व्यक्तियों के संपर्क में आ सकते हैं। हालांकि आपको अपने कार्य शैली में कुछ परिवर्तन करना पड़ सकता है। जिसके कारण आपके कार्य प्रभावित होंगे।
वृष- आज आप शत्रुओं को समूल नष्ट करने में सक्षम होंगे। कोई भी पुराना विवाद समाप्त होगा और परिणाम आपके पक्ष में होने की पूरी सम्भावना है। परन्तु समय अनुकूल होने के बावजूद शत्रु लगातार पनपेंगे और परेशान करेंगे। आपके अंदर भी कुछ उतावलापन और उग्रता जन्म लेगी, आपको इस पर नियंत्रण रखना चाहिए। कार्य क्षेत्र में नए प्रयोग या कुछ अधिक धन लगाने से बचें। शिक्षा-प्रतियोगिता के लिए समय बेहतर है, नौकरी तलाशने वालों को कुछ शुभ समाचार प्राप्त हो सकते हैं।
मिथुन-  दिन मिश्रित परिणामदायक रहेगा।आमदनी ठीक रहेगी,लेकिन बढ़ते खर्चों पर विराम लगाने में आप  सफल नहीं हो पाएंगे। दिन-प्रतिदिन के कार्य सुचारू रूप से चलते रहेंगे। एक बड़े उद्यम में शामिल होने से पहले पर्याप्त पूछताछ करें। काम के लिए लंबी दूरी की यात्रा लाभदायक होगी। कुछ मामूली मुद्दों पर घरेलू मोर्चे पर तनातनी हो सकती है। घर पर कुछ धार्मिक समारोह मनाया जा सकता है।
कर्क- आज आपको मिश्रित परिणाम मिलेंगे। आपके कार्यस्थल पर उतार-चढ़ाव बना रहेगा। आप प्रतिद्वंद्वी गतिविधियों से परेशान हो सकते हैं। वित्तीय बाधाओं को महसूस किया जाएगा क्योंकि खर्च में वृद्धि जारी रहेगी,लेकिन दोस्तों की मदद से आप चीजों को सकारात्मक रूप से घुमा पाएंगे। आप मौसम के अनुसार थोड़ा शिथिल महसूस कर सकते हैं इसलिए अपने आहार का विशेष ध्यान रखें और कुछ योग करें। किसी भी यात्रा को स्थगित करना उचित होगा। घर में कुछ तनाव हो सकता है इसलिए किसी भी तरह की बहस से दूर रहें।
सिंह- जीवनसाथी के साथ आनंददायी समय बीतेगा। प्रेम संबंधों में में कुछ विवादास्पद घटनाक्रम सामने आ सकते हैं। अत: सावधानी से आचरण करें। इस समय आपको अपनी वाणी पर विशेष संयम रखना होगा। आप सुख-सुविधाओं का लाभ ले पाएंगे। कामों सफलता मिलेगी। सब प्रकार से अनुकूल परिणाम मिलेंगे। आर्थिक लाभ के लिए कुछ अधिक मेहनत करनी पड़ सकती है।
कन्या- नई योजनाओं और उपक्रमों के लिए बहुत अच्छा है। अपना खुद का व्यवसाय शुरू करने के लिए  दिन शुभ है,भाग्य आपका पक्ष लेगा और आपके रुके हुए कार्य प्रगति करेंगे। आर्थिक रूप से आप अच्छा करेंगे और कुछ अतिरिक्त प्रयासों के साथ एक पुराना दिया गया ऋण भी वापस प्राप्त कर सकते हैं। कोई भी निवेश करने से पहले किसी जानकार व्यक्ति की सलाह अवश्य लें। प्रतिद्वंद्वी आपको नुकसान नहीं पहुंचा पाएंगे। प्रेम संबंध सामान्य रहेंगे।
तुला- नए उद्यम की शुरुआत हो सकती है या एक नए सौदे को अंतिम रूप दिया जा सकता है। भविष्य में यह अत्यधिक लाभ अर्जित कर सकता है। व्यावसायिक और सामाजिक दायरे में सम्मान और प्रतिष्ठा हासिल करने के लिए दिन  अनुकूल है। आपको योग्य लोगों के साथ मुलाकात हो सकती है। पारिवारिक जीवन आरामदायक और शांतिपूर्ण रहेगा। आपके पास नए अधिग्रहण हो सकते हैं जो आपकी जीवन-शैली में सुधार करेंगे और आपकी संतुष्टि में वृद्धि करेंगे। आप और आपके परिवार के सदस्यों का स्वास्थ्य शुभ  रहेगा।कोई बड़ी चिंता नहीं है।
वृश्चिक-नौकरीपेशा जातक पद्दोनती प्राप्त कर सकतें है।व्यवसाय में, एक नए कार्य का आरम्भ हो  सकता है या आप  एक नए सौदे को अंतिम रूप दे सकतें हैं जो भविष्य में लाभदायक रहेगा। आपको योग्य लोगों के साथ स्थायी दोस्ती बना सकतें हैं।पारिवारिक जीवन आरामदायक और शांतिपूर्ण रहेगा। आपके पास नए अधिग्रहण हो सकते हैं। जो आपकी जीवन-शैली में सुधार करेंगे और आपकी संतुष्टि में वृद्धि करेंगे। आप और आपके परिवार के सदस्यों को बेहतर स्वास्थ्य का आनंद लेने की संभावना है, जिसमें कोई बड़ी चिंता नहीं है।
धनु-पारिवारिक यात्राएं आनंद से भरी होंगी। अपने परिवार के साथ समय बिताने के लिए आज  अच्छा दिन है। पारिवारिक आय में सुधार होगा और बच्चे शैक्षणिक मोर्चे पर उत्कृष्ट प्रदर्शन करेंगे।परिवार में कुछ सुखद घटनाएं घट सकती हैं। माता की संपत्ति के पक्ष में कानूनी मुद्दे कुछ गति प्राप्त कर सकते हैं।व्यापार में हालात सामान्य रहेंगे।आय में अनियमितता के कारण कुछ परेशानी हो सकती है।ओरल अल्सर और दांतों की चिंता समस्याएं इस दौरान आपको परेशान कर सकती हैं। किसी नए व्यक्ति के साथ या ऐसे माहौल में जिसके साथ आप परिचित नहीं हैं, भोजन करते समय सावधान रहें।
मकर-धन हानि के कारण परिवारिक सदस्यों के साथ वाद-विवाद हो सकता है। इसलिए आपको हर संभव सतर्कता एव सावधानी बरतने की आवश्यकता है। कार्यक्षेत्र पर सोचविचार कर निर्णय लें।दूसरों पर अत्याधिक भरोसा आपको परेशानी में डाल सकता है।आपके कुछ रिश्तेदार अनौपचारिक मोड़ ले सकते हैं और समस्याएं पैदा करने की कोशिश कर सकते हैं। आप गर्दन अथवा  गले को प्रभावित करने वाली कुछ स्वास्थ्य समस्याओं से पीड़ित हो सकते हैं। आपके परिवार के कुछ सदस्यों (विशेषकर पिता) का स्वास्थ्य आपके लिए गंभीर चिंता का कारण हो सकता है।
कुम्भ-आपको विभिन्न स्तरों पर कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता है। आप भ्रम की स्थिति  में होंगे और यह स्थिति आपको समय पर काम पूरा करने से रोक देगी। इस समय संसाधनों की कमी के कारण कुछ व्यावसायिक योजनाओं को रोकना पड़ सकता है। स्वास्थ्य आपकी कुछ चिंता का कारण बन सकता है। उत्तरार्ध में हालात सुधरेंगे और कठिनाइयों का समाधान मिलेगा। आप अपने भाइयों, बहनों और दोस्तों के समर्थन और मदद से प्रगति करेंगे। आपकी आर्थिक स्थिति में भी सुधार होगा। आपकी सामाजिक छवि बढ़ेगी।
मीन-व्यवसायिक सन्दर्भ में अच्छे रणनीतियों को मूर्त रूप देने के लिए आज उत्कृष्ट समय है । प्राधिकरण और रैंक के व्यक्ति आपको विशेष सहयोग और अवसर प्रदान कर सकतें हैं । आर्थिक रूप से दिन समृद्ध है । आज आपकी मेहनत का  आपको लाभ मिलेगा। आपका पारिवारिक-जीवन शांतिपूर्ण और खुशहाल रहेगा। रिश्तेदारों के साथ संबंध में काफी सुधार होगा। आपकी सामाजिक लोकप्रियता बढ़ेगी और लोग महत्वपूर्ण मामलों पर आपकी सलाह लेंगे।
जिनका आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं
दिनांक 20 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 2 होगा। ग्यारह की संख्या आपस में मिलकर दो होती है इस तरह आपका मूलांक दो होगा। इस मूलांक को चंद्र ग्रह संचालित करता है। चंद्र ग्रह मन का कारक होता है। आप अत्यधिक भावुक होते हैं। आप स्वभाव से शंकालु भी होते हैं। दूसरों के दु:ख-दर्द से आप परेशान हो जाना आपकी कमजोरी है।

आप मानसिक रूप से तो स्वस्थ हैं लेकिन शार‍ीरिक रूप से आप कमजोर हैं। चंद्र ग्रह स्त्री ग्रह माना गया है। अत: आप अत्यंत कोमल स्वभाव के हैं। आपमें अभिमान तो जरा भी नहीं होता। चंद्र के समान आपके स्वभाव में भी उतार-चढ़ाव पाया जाता है। आप अगर जल्दबाजी को त्याग दें तो आप जीवन में बहुत सफल होते हैं।

शुभ दिनांक : 2, 11, 20, 29 

शुभ अंक : 2, 11, 20, 29, 56, 65, 92

शुभ वर्ष : 2027, 2029, 2036

ईष्टदेव : भगवान शिव, बटुक भैरव
शुभ रंग : सफेद, हल्का नीला, सिल्वर ग्रे

कैसा रहेगा यह वर्ष

लेखन से संबंधित मामलों में सावधानी रखना होगी। बगैर देखे किसी कागजात पर हस्ताक्षर ना करें। किसी नवीन कार्य योजनाओं की शुरुआत करने से पहले बड़ों की सलाह लें। व्यापार-व्यवसाय की स्थिति ठीक-ठीक रहेगी। स्वास्थ्य की दृष्टि से संभल कर चलने का वक्त होगा। पारिवारिक विवाद आपसी मेलजोल से ही सुलझाएं। दखलअंदाजी ठीक नहीं रहेगी।

Posted By Lal Kitab Anmol05:59

2019 में इस वजह से 23 को मनाई जाएगी जन्माष्टमी

अंतर्गत लेख:


lka 20/08/2019 

भाद्रपद कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को देखें तो ये 23 अगस्त को सुबह 8 बजकर 8 मिनट से 24 अगस्त को सुबह 8 बजकर 31 मिनट तक है।
Janmashtami 2019  भाद्रपद कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को देखें तो ये 23 अगस्त को सुबह 8 बजकर 8 मिनट से 24 अगस्त को सुबह 8 बजकर 31 मिनट तक है। कृष्ण जन्माष्टमी को कृष्णाष्टमी, गोकुलाष्टमी, कन्हैया अष्टमी, कन्हैया आठे, श्रीकृष्ण जयंती नामों से भी जाना जाता है। पूरे देश के अतिरिक्त जन्माष्टमी बांग्लादेश के ढाकेश्वरी मंदिर व पाकिस्तान के कराची के स्वामीनारायण मंदिर में भी धूमधाम से मनाई जाती है।
23 को जन्माष्टमी मनाने का कारण
इस बार अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र दोनों एक साथ नहीं बन रहे हैं। 23 अगस्त की रात 12 बजे से 1 बजे तक के मुहूर्त में अष्टमी तिथि तो है, लेकिन रोहिणी नक्षत्र 24 अगस्त को सूर्यादय से पहले 03:45 बजे शुरू होगा और 25 अगस्त को सुबह 04:25 बजे समाप्त हो जाएगा, इस वजह से 23 अगस्त को ही जन्माष्टमी पर्व माना जाएगा।
इनकी करें पूजा
जन्माष्टमी पूजन में देवकी, वासुदेव, बलदेव, नंद, यशोदा और लक्ष्मी जी की पूजा विधिवत मंत्र जाप और आरती से करनी चाहिए।
दही-हांडी महोत्सव
इस अवसर पर महाराष्ट्र व गुजरात में दही-हांडी महोत्सव भी धूमधाम से मनाया जाता है। भगवान कृष्ण की नगरी मथुरा में अभी से रासलीलाओं का आयोजन शुरु हो गया है। बड़ी संख्या में भक्त राधारानी और भगवान कृष्ण के दर्शन के लिए पहुंचते हैं।

Posted By Lal Kitab Anmol05:26

भाद्रकृष्ण पंचमी तिथि, पूरे दिन रहेगा गंडमूल - पंचांग 20 अगस्त

अंतर्गत लेख:



राष्ट्रीय मिति श्रावण 29, शक संवत् 1941, भाद्रपद, कृष्णा पंचमी, मंगलवार, विक्रम संवत् 2076। सौर भाद्रपद मास प्रविष्टे 04, जिल्हेज 18, हिजरी 1440 (मुस्लिम) तदनुसार अंग्रेजी तारीख 20 अगस्त सन् 2019 ई॰।

सूर्य दक्षिणायन, उत्तर गोल, वर्षा ऋतु। राहुकाल अपराह्न 03 बजे से 04 बजकर 30 मिनट तक। पंचमी तिथि अगले दिन तड़के 05 बजकर 30 मिनट तक उपरांत षष्ठी तिथि का आरंभ।


रेवती नक्षत्र रात्रि 10 बजकर 28 मिनट तक उपरांत अश्विनी नक्षत्र का आरंभ, शूल योग सायं 04 बजकर 27 मिनट तक उपरांत गण्ड योग का आरंभ।

कौलव करण सायं 04 बजकर 33 मिनट तक उपरांत गर करण का आरंभ। चंद्मार रात्रि 10 बजकर 28 मिनट तक मीन उपरांत मेष राशि पर संचार करेगा।

सूर्योदय का समय दिल्ली 19 अगस्त: सुबह 05 बजकर 53 मिनट पर।

सूर्यास्त का समय दिल्ली 19 अगस्त: शाम 07 बजकर 03 मिनट पर।

आज का शुभ मुहूर्तः


अमृत काल आज शाम 07 बजकर 49 मिनट से शाम 9 बजकर 36 मिनट तक। विजय मुहूर्त दोपहर 02 बजकर 48 मिनट से 03 बजकर 38 मिनट तक रहेगा। अभिजीत मुहूर्त आज दोपहर 12 बजकर 17 मिनट से 01 बजकर 07 मिनट तक। निशिथ काल मध्यरात्रि में 12 बजकर 19 मिनट से 01 बजकर 05 मिनट तक होगा। सर्वार्थ सिद्धि योग रात 10 बजकर 29 मिनट से अगले दिन 06 बजकर 25 मिनट तक। अमृत सिद्धि योग रात 10 बजकर 29 मिनट से अगले दिन 06 बजकर 25 मिनट तक। गौधूलि शाम 06 बजकर 47 मिनट से 07 बजकर 11 मिनट तक। ब्रह्म मुहूर्त सुबह 04 बजकर 53 मिनट से सुबह 05 बजकर 39 मिनट तक।

आज का अशुभ मुहूर्तः


राहुकाल अपराह्न 03 बजे से 04 बजकर 30 मिनट तक। दोपहर 12 बजकर 42 मिनट से दोपहर 02 बजकर 16 मिनट तक गुलिक काल रहेगा। सुबह 09 बजकर 33 मिनट से सुबह 11 बजकर 07 मिनट तक यमगंड रहेगा। गंडमूल पूरे दिन रहेगा। पंचक सुबह 6 बजकर 24 मिनट से रात 10 बजकर 29 मिनट तक।

आज के उपायः हनुमान जी की आराधना कीजिए। हनुमान चालीसा पाठ करें।(आचार्य कृष्णदत्त शर्मा)

Posted By Lal Kitab Anmol00:08

Monday, 19 August 2019

शनिदेव की पूजा में तिल और तेल क्यों ?



LKA19//08/2019

काला तिल, तेल, काला वस्त्र, काली उड़द शनि देव को अत्यंत प्रिय है। मान्यता है कि काला तिल और तेल से शनिदेव जल्द ही प्रसन्न हो जाते हैं। यदि शनिदेव की पूजा इन वस्तुओं से की जाए तो ऐसी पूजा सफल मानी जाती है।
शनिवार का व्रत यूं तो आप वर्ष के किसी भी शनिवार के से दिन शुरू कर सकते हैं, लेकिन मान्यता है कि श्रावण मास में शनिवार का व्रत प्रारम्भ करना अति मंगलकारी होता है। इस व्रत का पालन करने वाले को शनिवार के दिन प्रात: ब्रह्म मुहूर्त में स्नान करके शनिदेव की प्रतिमा का विधिवत पूजा करनी चाहिए। शनि भक्तों को इस दिन शनि मंदिर में जाकर शनि देव को नीले लाजवन्ती का फूल, तिल, तेल, गुड़ अर्पण करना चाहिए।
शनिदेव को तेल चढ़ाए जाने के संदर्भ में भी एक कथा प्रचलित है। कहा जाता है कि एकबार युद्ध के दौरान हनुमानजी ने शनि देव पर ऐसे तीखे प्रहार किए जिस कारण शनिदेव के शरीर पर काफी घाव बन गए। वह पीड़ा उनसे सहन नहीं हो रही थी। इसके बाद हनुमान जी ने शनिदेव को तिल का तेल लगाने के लिए दिया, जिससे उनका पूरा दर्द गायब हो गया। इसी कारण शनिदेव ने कहा कि जो मनुष्य मुझे सच्चे मन से तेल चढ़ाएगा। मैं उसकी सभी पीड़ा हर लूंगा और सभी मनोकामनाएं पूरी करूंगा।

Posted By Lal Kitab Anmol03:57

Sunday, 18 August 2019

आज19/08/2019 पंचांग राशिफल





ऊं नमः शिवाय शिवजी सदा सहाय
ऊं नमः शिवाय गुरुजी सदा सहाय
ऊं नमः शिवाय श्री बालाजी सदा सहाय

निःशुल्क पंचांग अपने मोबाइल फोन पर मंगवाने के लिए9911342666
 पर अपने नाम के साथ शहर का नाम लिख कर व्हाट्सएप्प करे
🌞 ~ *आज का श्री बालाजी पंचांग* ~
⛅ *दिनांक 19 अगस्त 2019*
⛅ *दिन - सोमवार*
⛅ *विक्रम संवत - 2076
⛅ *शक संवत -1941*
⛅ *अयन - दक्षिणायन*
⛅ *ऋतु - वर्षा*
⛅ *मास - भाद्रपद  अनुसार श्रावण)*
⛅ *पक्ष - कृष्ण*
⛅ *तिथि - चतुर्थी 19 अगस्त प्रातः 03:30 तक तत्पश्चात पंचमी*
⛅ *नक्षत्र - उत्तर भाद्रपद शाम 07:49 तक तत्पश्चात रेवती*
⛅ *योग - धृति दोपहर 03:45 तक तत्पश्चात शूल*
⛅ *राहुकाल - सुबह 07:44 से सुबह 09:19 तक*
⛅ *सूर्योदय - 06:19*
⛅ *सूर्यास्त - 19:04*
⛅ *दिशाशूल - पूर्व दिशा में*
⛅ *व्रत पर्व विवरण - संकष्ट चतुर्थी  (चन्द्रोदय रात्रि 09:40), बहुला चतुर्थी  (म.प्र.)*
💥 *विशेष - चतुर्थी को मूली खाने से धन का नाश होता है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)*
     🌷 *बहुला चतुर्थी* 🌷
🙏🏻 *भाद्रपद महिने के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी अनुसार श्रावण मास) को बहुला चतुर्थी व बहुला चौथ के नाम से जाना जाता है। इस दिन भगवान श्रीगणेश के निमित्त व्रत किया जाता है। वर्ष की प्रमुख चार चतुर्थी में से एक यह भी है। इस बार यह चतुर्थी 19 अगस्त, सोमवार को है।*
 🌷 *ऐसे करें व्रत* 🌷
👩🏻 *महिलाएं इस दिन सुबह स्नान कर पवित्रता के साथ भगवान गणेशजी की आराधना आरंभ करें। भगवान गणेशजी  की प्रतिमा के सामने व्रत का संकल्प लें। धूप, दीप, गंध, पुष्प, प्रसाद आदि सोलह उपचारों से श्रीगणेशजी का पूजन संपन्न करें। चंद्र उदय होने से पहले जितना हो सके कम बोलें।*
👉🏻 *शाम होने पर फिर से स्नान कर इसी पूजा विधि से भगवान श्रीगणेशजी की उपासना करें। इसके बाद चन्द्रमा के उदय होने पर शंख में दूध, दूर्वा, सुपारी, गंध, अक्षत से भगवान श्रीगणेशजी का पूजन करें और चतुर्थी तिथि को चंद्र्देव को अर्घ दें। इस प्रकार बहुला चतुर्थी व्रत के पालन से सभी मनोकामनाएं पूरी होने के साथ ही व्रती (व्रत करने वाला) के व्यावहारिक व मानसिक जीवन से जुड़े सभी संकट, विघ्न और बाधाएं समूल नष्ट हो जाते हैं। यह व्रत संतान दाता तथा धन को बढ़ाने वाला है।*
      *कोई कष्ट हो तो* 🌷
➡ *19 अगस्त 2019 सोमवार को कृष्ण पक्ष की चतुर्थी है  ।*
🙏🏻 *हमारे जीवन में बहुत समस्याएँ आती रहती हैं, मिटती नहीं हैं ।, कभी कोई कष्ट, कभी कोई समस्या | ऐसे लोग शिवपुराण में बताया हुआ एक प्रयोग कर सकते हैं कि, कृष्ण पक्ष की चतुर्थी (मतलब पुर्णिमा के बाद की चतुर्थी ) आती है | उस दिन सुबह छः मंत्र बोलते हुये गणपतिजी को प्रणाम करें कि हमारे घर में ये बार-बार कष्ट और समस्याएं आ रही हैं वो नष्ट हों |*
👉🏻 *छः मंत्र इस प्रकार हैं –*
🌷 *ॐ सुमुखाय नम: : सुंदर मुख वाले; हमारे मुख पर भी सच्ची भक्ति प्रदान सुंदरता रहे ।*
🌷 *ॐ दुर्मुखाय नम: : मतलब भक्त को जब कोई आसुरी प्रवृत्ति वाला सताता है तो… भैरव देख दुष्ट घबराये ।*
🌷 *ॐ मोदाय नम: : मुदित रहने वाले, प्रसन्न रहने वाले । उनका सुमिरन करने वाले भी प्रसन्न हो जायें ।*
🌷 *ॐ प्रमोदाय नम: : प्रमोदाय; दूसरों को भी आनंदित करते हैं । भक्त भी प्रमोदी होता है और अभक्त प्रमादी होता है, आलसी । आलसी आदमी को लक्ष्मी छोड़ कर चली जाती है । और  जो प्रमादी न हो, लक्ष्मी स्थायी होती है ।*
🌷 *ॐ अविघ्नाय नम:*
🌷 *ॐ विघ्नकरत्र्येय नम:*
🕉आज का राशिफल🕉
मेष राशिफल / Aries Horoscope Today: कोई आप के निजी जीवन में विघ्न उत्पन्न करने की कोशिश कर रहा है, सतर्क रहें। अपने स्वास्थ्य के प्रति सजग रहें। शारीरिक कष्ट संभव है। अपने कार्य को पूरा करने के लिए दूसरों से अपेक्षा न करें।

वृषभ राशिफल / Taurus Horoscope Today: भवन-भूमि के मामलों में शत्रु सक्रिय रहेंगे। जीवनसाथी की चिंता रहेगी। यात्रा में सावधानी रखें, अन्यथा नुकसान संभव है। कारोबार में बाधा दूर होकर धन प्राप्ति सुगम होगी। भाइयों से विवाद न करें।

मिथुन राशिफल / Gemini Horoscope Today: निजी जीवन में भागदौड़ अधिक होगी। संतान कि चिंता तथा तनाव सताएंगे। व्यवसायिक शत्रु परास्त होंगे। संपत्ति के बड़े सौदे अभी टालें। अचानक धनार्जन होगा।

कर्क राशिफल / Cancer Horoscope Today: दिन की शुरुआत भक्ति भाव से प्रारंभ होगी। घर-परिवार में किसी आयोजन की रूपरेखा बनेगी। विद्यार्थी वर्ग सफलता हासिल करेगा। किसी प्रतियोगिता में हिस्सा लेंगे। अनाज तिलहन में निवेश से लाभ होगा।

सिंह राशिफल / Leo Horoscope Today: किसी अपने की गलती से प्रतिष्ठा को ठेस पहुंच सकती है। शारीरिक कष्ट से बाधा उत्पन्न होगी। कई कार्य प्रभावित होंगे। आपसी विवाद आदि से क्लेश संभव है। दूसरों के झंझटों में न पड़ें।

कन्या राशिफल / Virgo Horoscope Today: पारिवारिक मांगलिक कार्यक्रम की तैयारी में लगे रहेंगे। बीती बातों को भूल कर नई शुरुआत करें। मकान बदलने के योग बन रहे है। आर्थिक मामले यथावत रहेंगे। व्यवसाय में मंदी रहेगी।

तुला राशिफल / Libra Horoscope Today: कारोबार में नई तकनिकी का प्रयोग सफल और लाभकारी रहेगा। जरूरी कार्य समय पर पूरे होंगे। नए वस्त्राभूषण की प्राप्ति आज हो सकती है। खान-पान पर ध्यान दें।

वृश्चिक राशिफल / Scorpio Horoscope Today: अपनी निजी जिंदगी में दूसरों को दाखिल न करें। मुसीबत आ जायेगी। पारिवारिक मतभेदों के कारण आज विवाद संभव है। परिवार में आपकी अहमियत कम होगी और आप की भावनाओं को नजरअंदाज किया जायेगा।

धनु राशिफल / Sagittarius Horoscope Today: भूमि-भवन के क्रय विक्रय की रूप रेखा बनेगी। माता का स्वास्थ खराब हो सकता है। जीवनसाथी के साथ समय व्यतीत होगा जो आनंदमय रहेगा। नए संपर्कों का आज लाभ मिल सकता है। निवेश का सही समय है।

मकर राशिफल / Capricorn Horoscope Today: अपनों को दूर होता देख मन उदास रहेगा। किसी भी कार्य को समझ कर करें। वो आपकी जिम्मेदारी नहीं बल्कि जीविका है। भाई बहनों से विवाद हो सकता है। मित्रों का साथ मिलेगा। धार्मिक यात्रा के योग बन रहे है।

कुंभ राशिफल / Aquarius Horoscope Today: आपसी संबंधों के कारण समझोता करना होगा। कानूनी मामलों में उलझ सकते है। निराशा की समाप्ति होगी पर अभी समय है। आर्थिक मामले सुलझेंगे। कारोबार में नई तकनिकी का लाभ मिलेगा।

मीन राशिफल / Pisces Horoscope Today: अपने काम को नजरअंदाज न करें। किसी की निंदा करने से बचें। कारोबार में विवेक का प्रयोग लाभ का प्रतिशत बढ़ाएगा। धार्मिक आस्था में वृद्धि होगी।

जिनका आज जन्मदिन हैं
💙❤💜💝💛
 उनको हार्दिक शुभकामनाएं
दिनांक 19 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 1 होगा। आप राजसी प्रवृत्ति के व्यक्ति हैं। आपको अपने ऊपर किसी का शासन पसंद नहीं है। आप साहसी और जिज्ञासु हैं। आपका मूलांक सूर्य ग्रह के द्वारा संचालित होता है। आप अत्यंत महत्वाकांक्षी हैं। आपकी मानसिक शक्ति प्रबल है। आपको समझ पाना बेहद मुश्किल है। आप आशावादी होने के कारण हर स्थिति का सामना करने में सक्षम होते हैं। आप सौन्दर्यप्रेमी हैं। आपमें सबसे ज्यादा प्रभावित करने वाला आपका आत्मविश्वास है। इसकी वजह से आप सहज ही महफिलों में छा जाते हैं।

शुभ दिनांक : 1, 10, 19, 28

शुभ अंक : 1, 10, 19, 28, 37, 46, 55, 64, 73, 82

शुभ वर्ष : 2017, 2026, 2044, 2053, 2062

ईष्टदेव : सूर्य उपासना तथा मां गायत्री

शुभ रंग : लाल, केसरिया, क्रीम,

कैसा रहेगा यह वर्ष

यह वर्ष आपके लिए अत्यंत सुखद रहेगा। अधूरे कार्यों में सफलता मिलेगी। स्वास्थ्य की दृष्टि से यह वर्ष उत्तम रहेगा। पारिवारिक मामलों में महत्वपूर्ण कार्य होंगे। अविवाहितों के लिए सुखद स्थिति बन रही है। विवाह के योग बनेंगे। नौकरीपेशा के लिए समय उत्तम हैं। पदोन्नति के योग हैं। बेरोजगारों के लिए भी खुशखबर है इस वर्ष आपकी मनोकामना पूरी होगी।

यह वर्ष आपके लिए अत्यंत सुखद रहेगा। अधूरे कार्यों में सफलता मिलेगी। स्वास्थ्य की दृष्टि से यह वर्ष उत्तम रहेगा। पारिवारिक मामलों में महत्वपूर्ण कार्य होंगे। अविवाहितों के लिए सुखद स्थिति बन रही है। विवाह के योग बनेंगे। नौकरीपेशा के लिए समय उत्तम हैं। पदोन्नति के योग हैं। बेरोजगारों के लिए भी खुशखबर है इस वर्ष आपकी मनोकामना पूरी होगी।

Posted By Lal Kitab Anmol17:03

Saturday, 17 August 2019

आज 18अगसत


ऊं नमः शिवाय शिवजी सदा सहाय
ऊं नमः शिवाय गुरुजी सदा सहाय
ऊं नमः शिवाय श्री बालाजी सदा सहाय
🕉🕉🕉🕉🕉🕉🕉
निशुल्क पंचांग अपने मोबाईल फोन पर मंगवाने के लिए 9911342666पर अपने नाम के साथ में शहर का नाम लिख कर व्हाट्सएप्प करे
 ~ *आज का श्री बालाजी पंचांग* ~
⛅ *दिनांक 17 अगस्त 2019*
⛅ *दिन - शनिवार*
⛅ *विक्रम संवत - 2076
⛅ *शक संवत -1941*
⛅ *अयन - दक्षिणायन*
⛅ *ऋतु - वर्षा*
⛅ *मास - भाद्रपद  अनुसार श्रावण)*
⛅ *पक्ष - कृष्ण*
⛅ *तिथि - द्वितीया रात्रि 10:48 तक तत्पश्चात तृतीया*
⛅ *नक्षत्र - शतभिषा दोपहर 01:56 तक तत्पश्चात पूर्व भाद्रपद*
⛅ *योग - अतिगण्ड दोपहर 01:53 तक तत्पश्चात सुकर्मा*
⛅ *राहुकाल - सुबह 09:19 से सुबह 10:55 तक*
⛅ *सूर्योदय - 06:17*
⛅ *सूर्यास्त - 19:07*
⛅ *दिशाशूल - पूर्व दिशा में*
⛅ *व्रत पर्व विवरण - विष्णुपदी संक्रांति  (पुण्यकाल सूर्योदय से दोपहर 01:01 तक)*
💥 *विशेष - द्वितीया को बृहती (छोटा बैंगन या कटेहरी) खाना निषिद्ध है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)*
💥 *ब्रह्म पुराण' के 118 वें अध्याय में शनिदेव कहते हैं- 'मेरे दिन अर्थात् शनिवार को जो मनुष्य नियमित रूप से पीपल के वृक्ष का स्पर्श करेंगे, उनके सब कार्य सिद्ध होंगे तथा मुझसे उनको कोई पीड़ा नहीं होगी। जो शनिवार को प्रातःकाल उठकर पीपल के वृक्ष का स्पर्श करेंगे, उन्हें ग्रहजन्य पीड़ा नहीं होगी।' (ब्रह्म पुराण')*
💥 *शनिवार के दिन पीपल के वृक्ष का दोनों हाथों से स्पर्श करते हुए 'ॐ नमः शिवाय।' का 108 बार जप करने से दुःख, कठिनाई एवं ग्रहदोषों का प्रभाव शांत हो जाता है। (ब्रह्म पुराण')*
💥 *हर शनिवार को पीपल की जड़ में जल चढ़ाने और दीपक जलाने से अनेक प्रकार के कष्टों का निवारण होता है ।(पद्म पुराण)* *जल्दी परमात्म सुख की अनुभूति पाने के लिए*
🙏🏻 *मंत्र का दीर्घ उच्चारण मन को शीघ्र शिव स्वरूप में ले आएगा | जो भी मंत्र करो लेकिन उसको प्लुत में ले जाओगे तो मन ॐ स्वरूप ईश्वर में  पहुँचेगा और जल्दी परमात्मा सत की , परमात्मा ज्ञान की , परमात्मा सुख की अनुभूति होगी |🌷 *तकलीफों से दूर रहने के लिए* 🌷
🙏🏻 *चातुर्मास पूरा ..हर सोमवार को पांच बत्ती वाला दीपक जलाकर शिवलिंग के आगे रखें और बैठ कर गुरु मंत्र का जप करें थोड़ी देर | शिवलिंग पर दूध, जल , बेल पत्र चढा दें | और चातुर्मास पूरा हर सोमवार को एक टाईम खाएं और एक टाईम उपवास रखें ...तो उसकी ये तपस्या उस बहन को भाई को तकलीफों से दूर रखेगी |
💜आज का राशिफल❤
मेष-आज का दिन आपके लिए बहुत उत्साहजनक नहीं है। आज कार्यों में देरी और बाधाएं होंगी। हालांकि पारिवारिक सहयोग रहेगा और आर्थिक रूप से आप ठीक करेंगे। अपने विचारों और कार्यों को फिर से व्यवस्थित करने पर ध्यान दें, क्योंकि आपको अधिक अनुशासित और व्यवस्थित होने की आवश्यकता है। मौसमी बीमारियों से बचाव रखने के लिए अपनी जीवनशैली में बदलाव लाएं और स्वस्थ रहने के लिए नियमित व्यायाम करें । यात्रा स्थगित करनी पड़ सकती है।
वृष-आज मिश्रित परिणामों की अवधि है। इस समय आप थोड़े चिंतित हो सकते हैं। आप अनावश्यक जटिलताओं में फंस सकते हैं,और आपको चल रही परियोजनाओं में बाधाओं का भी सामना करना पड़ सकता है। आपको अपने स्वयं के भुगतान करने के लिए कड़ी मेहनत करनी होगी। वित्तीय मुद्दों को हल करने में भी कुछ समय लग सकता है। कोई भी महत्वपूर्ण निर्णय लेने से पहले अच्छे से सोच लें । पारिवारिक जीवन सामंजस्यपूर्ण रहेगा और आप बड़े उत्साह के साथ पारिवारिक गतिविधियों में भाग लेंगे। यात्रा संभव है। यह लाभदायक भी रहेगी।
मिथुन-आपका रचनात्मक कौशल आज चरम पर होगा और आप इसका उपयोग अपने सभी कामों में करेंगे। रचनात्मक क्षेत्रों से जुड़े लोग अच्छा करेंगे और अच्छा लाभ भी प्राप्त करेंगे। आप बैठकों, प्रस्तुतियों, प्रदर्शनियों और सम्मेलनों में लोकप्रिय रहेंगे। आप अपने घर को पुनव्यवस्थित करने की योजना बनाएंगे और कुछ कलाकृतियों की खरीदारी भी करेंगे। सहभागिता बढ़ेगी और आप अपने दोस्तों या परिवार के साथ एक छोटी यात्रा कर सकते हैं।
कर्क- कुछ भावनात्मक मुद्दे आपको परेशान कर सकते हैं। आज आपके लिए किसी भी प्रकार के तर्क से बचना बेहतर होगा । वरिष्ठों और सहकर्मियों से वांछित मदद प्राप्त होने में विलम्ब हो सकता है। चीजों को नियंत्रण में लाने के लिए आपको कड़ी मेहनत करनी होगी।अपनी वित्तीय स्थिति को मजबूत करने के लिए आप अपने वित्तीय कौशल का प्रदर्शन करेंगे और कमीशन के माध्यम से भी कुछ कमाई भी की जा सकती है। आपको किसी यात्रा को स्थगित करना पड़ सकता है। पारिवारिक जीवन सामान्य रहेगा और परिवार में किसी बड़े की सलाह उपयोगी साबित होगी।
सिंह-कमाई में वृद्धि होगी और पैसे कमाने के और जरिए बनेंगे। आपके भाई-बहिन से भी आपको फ़ायदे मिल सकते हैं। आपके पिता आपको सहयोग करेंगे, लेकिन आपको अपनी माता की सेहत की तरफ ध्यान देना पड़ेगा। आपको अपने काम की वज़ह से अपने घर से दूर भी रहना पड़ सकता है। प्रेम प्रसंगों के लिए काफ़ी अनुकूल रहने वाला है। परिवार को लेकर आप कुछ भावुक हो सकतें ही । विवाह या सगाई की बात करने के लिए समय अनुकूल है। परन्तु किसी भी मामले में ज़िद करने से बचें।
कन्या-उच्च अधिकारियों से मधुर संबंध बनाकर रखें। आर्थिक मामलों में थोड़ा संभल कर चलें, ज़रूरत से अधिक खर्च परेशानियां पैदा कर देगा। अपने स्वास्थ्य का भी विशेष ध्यान रखें। नए मित्र बनेंगे परन्तु थोड़ा सावधान रहें क्योंकि इनमे से अधिकतर स्वार्थी हो सकते हैं। यात्रा में थोड़ी सावधानी बरतें और जहां तक संभव हो किसी को अपने साथ लेकर जाएं। संतान के मामले में थोड़ी समस्या या चिंता हो सकती है, परीक्षा-प्रतियोगिता या नयी नौकरी के साक्षात्कार के लिए मध्यम समय है।
तुला- यदि आप राजनीति या सामाजिक जीवन से जुड़े हुए हैं तो आपके लिए आज का दिन शुभ है । आयात-निर्यात, विदेशी कार्य -व्यापार, तथा विदेश यात्रा के लिए भी बेहतर समय है यह। आज आप भाग्य से अधिक कर्म पर भरोसा करें। जुआ-सट्टा आदि से दूर रहें। जीवनसाथी से मतभेद उत्पन्न होने के संकेत लगातार मिल रहे हैं, अतः स्वयं को शांत रखें और उनके साथ कुछ समय व्यतीत करें। घर के साजो-सामान पर व्यय हो सकता है। आपको भाई-बहनों का पूर्ण सहयोग मिलने के प्रबल आसार हैं ।
वृश्चिक- परीक्षा, प्रतियोगिता या साक्षात्कार में शामिल होने वाले सफल होंगे। जिन जातकों का अदालत में कुछ मामला लंबित है, वे कुछ सकारात्मक विकास देखेंगे। वित्तीय मामलों में वांछित परिणाम मिलना संभव है और आपको आय का एक अतिरिक्त स्रोत भी मिल सकता है। उद्यमियों के लिए नए क्षितिज खुल सकते हैं जो उन्हें अधिक स्थापित करने में मदद करेंगे। नौकरीपेशा जातक कार्यस्थल पर अपने कौशल का प्रदर्शन करेंगे। बच्चे अच्छी प्रगति करेंगे और आप एक सुखद जीवन का आनंद लेंगे।
धनु-वित्तीय क्षेत्र में उठाए गए कदम सफल होंगे। आय का एक अतिरिक्त स्रोत भी स्थापित हो सकता है। भूमि क्रय –विक्रय के सनार्भ में कमीशन के माध्यम से आर्थिक लाभ संभव हैं। यदि आप अपना खुद का व्यवसाय कर रहे हैं, तो इस समय का सदुपयोग अच्छी विस्तार योजनाएं बना कर करें । यदि आपका व्यवसाय रचनात्मक क्षेत्र से जुड़ा हुआ है, तो आपको अपनी प्रतिभा दिखाने और खुद का नाम बनाने के अवसर मिलेंगे। पारिवारिक जीवन सामंजस्यपूर्ण रहेगा और परिवार में शादी या संतान के जन्म सम्बंधित शुभ घटनाएं घटित हो सकती हैं।
मकर-आज स्थिति कुछ खराब रह सकती है। स्वास्थ्य कमजोर रह सकता है। फलस्वरूप कामों को सही ढ़ंग से करने में आप स्वयं को थका हुआ महसूस कर सकते हैं। खान-पान पर संयम रखकर आप अपने स्वास्थ्य को बेहतर रख सकते हैं। आप किसी दूर की यात्रा पर जा सकते हैं। कामों में सफ़लता मिलेगी। आर्थिक लाभ के अवसर मजबूत होंगे। आपकी सुख सुविधाओं की वृद्धि होगी। किन्तु घरेलू मामलों में सावधानी से काम लें।
कुंभ-आज आप में से कुछ को आपके भागीदार या किसी करीबी सहयोगी से समस्या हो सकती है। व्यवसाय संबंधित यात्राएं वांछित परिणाम नहीं दे पाएंगी । नए कार्यस्थल से जुड़ने या नई परियोजनाओं और उपक्रमों को शुरू करने के लिए दिन ज्यादा अनुकूल नहीं है। कार्य स्थल पर किसी से झगड़े और टकराव से बचने की कोशिश करनी चाहिए। प्रेमपूर्ण संपर्क यदि कोई हो, तो यह एक बुरा मोड़ ले सकता है। आप में से कुछ लोग बदनामी और अपमान का शिकार हो सकते हैं। पारिवारिक परिवेश आज आप में से कुछ को भावनात्मक रूप से परेशान कर सकता है। जीवनसाथी या संतान के स्वास्थ्य से सम्बंधित कुछ चिंता हो सकती है।
मीन-आपके प्रभाव का दायरा बढ़ेगा और आप कुछ महत्वपूर्ण संपर्क स्थापित करेंगे जो लंबे समय में फायदेमंद सिद्ध होंगे। आपको कोई अच्छी खबर मिलेगी या चर्चा के माध्यम से आपको आर्थिक लाभ मिलेग । वित्तीय क्षेत्र में वांछित लाभ होगा। आप शेयर बाजार, वाहन, संपत्ति या बचत योजनाओं में निवेश पर विचार करेंगे। कुछ जरूरी खर्च टल सकतें हैं । पारिवारिक सदस्यों के मध्य तालमेल बना रहेगा और आप खुश रहेंगे। यदि आप अविवाहित हैं, तो जल्द ही आपकी शादी हो सकती है।
जिनका आज जन्मदिन है उनको हार्दिक शुभकामनाएं
दिनांक 17 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 8 होगा। यह ग्रह सूर्यपुत्र शनि से संचालित होता है। इस दिन जन्मे व्यक्ति धीर गंभीर, परोपकारी, कर्मठ होते हैं। आपकी वाणी कठोर तथा स्वर उग्र है। आप भौतिकतावादी है। आप अदभुत शक्तियों के मालिक हैं। आप अपने जीवन में जो कुछ भी करते हैं उसका एक मतलब होता है। आपके मन की थाह पाना मुश्किल है। आपको सफलता अत्यंत संघर्ष के बाद हासिल होती है। कई बार आपके कार्यों का श्रेय दूसरे ले जाते हैं।

शुभ दिनांक : 8 17, 26

शुभ अंक : 8, 17, 26, 35, 44

शुभ वर्ष : 2016, 2024, 2042

ईष्टदेव : हनुमानजी, शनि देवता

शुभ रंग : काला, गहरा नीला, जामुनी

कैसा रहेगा यह वर्ष
सभी कार्यों में सफलता मिलेगी। जो अभी तक बाधित रहे है वे भी सफल होंगे। व्यापार-व्यवसाय की स्थिति उत्तम रहेगी। नौकरीपेशा व्यक्ति प्रगति पाएंगे। बेरोजगार प्रयास करें, तो रोजगार पाने में सफल होंगे। शत्रु वर्ग प्रभावहीन होंगे, स्वास्थ्य की दृष्टि से समय अनुकूल ही रहेगा। राजनैतिक व्यक्ति भी समय का सदुपयोग कर लाभान्वित होंगे

Posted By Lal Kitab Anmol23:54

असाध्य रोगों का इलाज गायत्री मंत्र

lka 17/8/2019 

            सर्वश्रेष्ठ मंत्र  गायत्री मंत्र की महिमा :
गायत्री मंत्र को शास्त्रों के अनुसार चारों वेदों का सर्वश्रेष्ठ मंत्र कहा गया है, गायत्री मंत्र सनातन एवं अनादि मंत्र है। पुराणों में कहा गया है कि सृष्टिकर्ता ब्रह्मा को गायत्री मंत्र आकाशवाणी के ज़रिए मिला था। इस मंत्र की साधना करने से ही ब्रह्मा को सृष्टि की रचना करने की शक्ति प्राप्त हुई थी। गायत्री मंत्र के चार चरणों की व्याख्या स्वरूप ही ब्रह्मा ने चार मुखों से चार वेदों का वर्णन किया। गायत्री को वेदमाता भी कहा जाता है। चारों वेद, गायत्री की व्याख्या मात्र ही हैं। गायत्री को जाननेवाला वेदों को जानने का लाभ प्राप्त करता है।
गायत्री मंत्र के २४ अक्षर २४ अत्यंत ही महत्त्वपूर्ण शिक्षाओं के प्रतीक हैं। वेद, शास्त्र, पुराण, स्मृति, उपनिषद् के माध्यम से जो शिक्षाएं मनुष्य जाति को दी गई हैं, उन सबका सार इन २४ अक्षरों में मौजूद है। इन्हें अपनाकर मनुष्य व्यक्तिगत और सामाजिक सुख-शांति पूर्ण रूप से पा सकता है। भारतीय संस्कृति की चार आधारशिलाएं गायत्री, गीता, गंगा और गौ हैं। इनमें गायत्री का स्थान सर्वोपरि है। जिस व्यक्ति ने गायत्री के छिपे हुए रहस्यों को जान लिया, उसके लिए और कुछ जानना शेष नहीं रह जाता है, गीता में भगवान ने स्वयं कहा है ‘गायत्री छंदसामहम्’ अर्थात् गायत्री मंत्र में स्वयं ही है। गायत्री मंत्र सूर्य भगवान को समर्पित है, इसलिए इस मंत्र को सूर्योदय और सूर्यास्त के समय पढ़ा जाता है, संस्कृत का यह मंत्र ऋग्वेद से लिया गया है, जो भृगु ऋषि को समर्पित है,
गायत्री मंत्र के जाप के लिए शास्त्रों के अनुसार तीन समय बताए गए हैं-
✶ गायत्री मंत्र का पहला जाप प्रात:काल यानी सूर्योदय से पहले से सूर्योदय के बाद तक करें।
✶गायत्री मंत्र का दूसरा जाप दोपहर यानी ठीक दोपहर के समय करें।
✶गायत्री मंत्र का तीसरा जाप शाम यानी सूर्यास्त के पहले से सूर्यास्त के बाद तक करें।
इन तीन समय के अलावा भी अगर गायत्री मंत्र का जाप करना है, तो मौन रहकर या मन-ही-मन उसका जाप करें। मंत्र जाप तेज़ आवाज़ में कतई न करें।
क्या है गायत्री मंत्र?
ॐ भूर्भुव: स्व: तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात्
गायत्री मंत्र का अर्थ 
सृष्टिकर्ता प्रकाशमान परामात्मा के तेज का हम ध्यान करते हैं, परमात्मा का वह तेज हमारी बुद्धि को सत्य के मार्ग की ओर चलने के लिए प्रेरित करे, या उस प्राणस्वरूप, दुःखनाशक, सुखस्वरूप, श्रेष्ठ, तेजस्वी, पापनाशक, देवस्वरूप परमात्मा को हम अंत:करण में धारण करें, वह परमात्मा हमारी बुद्धि को सत्य की राह पर चलने के लिए प्रेरित करें,
गायत्री मंत्र के फायदे / जाप के लाभ : 
गायत्री मंत्र एकमात्र ऐसा मंत्र है, जिसका जाप करने से सबसे ज़्यादा फ़ायदे होते हैं, इसे सूर्य देव की उपासना के लिए सबसे सरल और फलदायक मंत्र माना गया है। यह मंत्र चारों वेदों से मिलकर बना है। गायत्री उपासना प्रत्यक्ष तपश्चर्या है, इससे तुरंत आत्मबल बढ़ता है, गायत्री साधना बहुमूल्य दिव्य संपत्ति है। इस संपत्ति को जमा करके साधक उसके बदले में स्वास्थ्य, सांसारिक सुख एवं आत्मिक आनंद प्राप्त कर सकता है। यह मंत्र निरोगी जीवन के साथ-साथ यश, प्रसिद्धि, धन व ऐश्वर्य देनेवाला है यानी इसका जाप करनेवाला व्यक्ति हमेशा बीमारियों से दूर रहता है। कई बीमारियों का दुश्मन अगर किसी बीमारी से परेशान हैं और उससे जल्द-से-जल्द इछुटकारा पाना चाहते हैं, तो किसी भी शुभ मुहूर्त में एक कांसे के पात्र में स्वच्छ जल भरकर रख लें एवं उसके सामने किसी लाल आसन पर बैठकर गायत्री मंत्र का जाप करें। जाप के बाद जल से भरे पात्र का सेवन करने से गंभीर से गंभीर रोग का नाश हो जाता है, यह जल अन्य मरीज़ पीए, तो उसकी भी बीमारी जड़ से निकल जाती है।
गायत्री मंत्र से रोग निवारण : 
किसी भी शुभ मुहूर्त में दूध, दही, घी एवं शहद मिलाकर एक हज़ार बार गायत्री मंत्र के साथ हवन करने से चेचक, आंख के रोग एवं पेट के रोग जड़ से निकल जाते हैं। इसमें लकड़ी पीपल की होनी चाहिए, मंत्रों के साथ नारियल का बुरादा एवं घी का हवन करने से बीमारी तो दूर होती ही है, इससे शत्रुओं का नाश भी हो जाता है, नारियल के बरादे में अगर शहद का इस्तेमाल किया जाए, तो सौभाग्य में वृद्धि होती है,
गायत्री मंत्र से बढ़ाए खूबसूरती 
गायत्री मंत्र का जाप करने से सौंदर्य में बढ़ोतरी होती है, इस मंत्र के जाप से उत्साह एवं सकारात्मकता से आपकी त्वचा में चमक आती है, तामसिकता से घृणा और परमार्थ में रुचि जागती है, पूर्वाभास होने लगता है, आशीर्वाद देने की शक्ति बढ़ती है, सपने साकार होने लगते हैं, क्रोध शांत होता है, ज्ञान की वृद्धि होती है। इससे आदमी तंदुरुस्त महसूस करता है। बांझपन करे दूर किसी दंपत्ति को संतान प्राप्त करने में कठिनाई आ रही हो या संतान से दुखी हो अथवा संतान रोगग्रस्त हो, तो प्रात: पति-पत्नी एक साथ सफ़ेद वस्त्र धारण कर गायत्री मंत्र का जप करें, इससे बांझपन दूर होता है और संतान सुख मिलता है।
गायत्री मंत्र से मिले सुंदर संतान 
जो गर्भवती महिलाएं सुंदर और तंदुरुस्त संतान की कामना करती हैं, उन्हें गायत्री मंत्र का जाप करना चाहिए। इस मंत्र का जाप करने से होनेवाला बच्चा सुंदर और तंदुरुस्त होता है।
गायत्री मंत्र से आंख की रोशनी बढ़ाए :
गायत्री मंत्र के जाप का असर आंखों पर भी होता है। इस मंत्र का नियमित जाप करने से आंखों की रोशनी बढ़ जाती है।

Posted By Lal Kitab Anmol05:18

घबरायें नहीं शनि की साढ़े साती से यह रहा उपाय

अंतर्गत लेख:

/LKA 18/08/2019

शनि की साढ़े साती दूर करने के उपाय :
१- श्रीशिवशंकर पर ताँबे का सर्प (नाग) चढ़ाना हितकर है।
२- पाँच शनिवार लगातार किसी लोहे के पात्र में तेल लें और उसमें अपना चेहरा देखकर तेल आक के पौधे पर डाल दें। अन्तिम शनिवार अर्थात् पाँचवें शनिवार को तेल चढ़ाने के बाद तेल वाला पात्र आक के पौधे के पास ही गाड़ दें।
३- “ॐ ऐं ह्रीं श्रीं शनैश्चराय नमः” इस मंत्र का जप प्रतिदिन १०८ बार करें।
४- सात शनिवार तक आक के पौधे पर लोहे की सात कील चढ़ानी चाहिए।
५- काले रंग की वस्तुएं एवं सात बादाम सात शनिवार तक लगातार किसी मन्दिर में दान करें।
६- श्री हनुमान की पूजा-अर्चना तथा तेल युक्त सिंदूर समर्पण कर भक्तिपूर्वक शनिवार का व्रत करना चाहिए।
७- सूर्यास्त के उपरान्त “सुन्दरकाण्ड” का पाठ करना चाहिए। पाठ के दौरान स्वयं की लम्बाई के बराबर कच्चे सूत के धागे से बनी बत्ती का तेल से दीपक प्रज्जवलित रखें तथा प्रत्येक शनिवार को किसी भी हनुमान मन्दिर में हनुमान जी की प्रतिमा को सिंदूर, चमेली का तेल, चांदी के वर्क से चोला चढ़ावें। जनेऊ, लाल फूल की माला, लड्डु तथा पान अर्पण करें।
८- सात प्रकार के धानों का दान तथा शनिवार को प्रातः पीपल का पूजन करें।
९- लाजवन्ती, लौंग, लोबान, चौलाई, काला तिल, गौर, काली मिर्च, मंगरैला, कुल्थी, गौमूत्र आदि में से जो भी प्राप्त हो (कम से कम पांच या सात) के चूर्ण को जल में मिलाकर दक्षिणमुखी खड़े होकर स्नान करें। इस जल से स्नान करने के पश्चात् किसी भी तरह का साबुन या तेल का प्रयोग नहीं करें।
१०- बिच्छु की जड़ या शमी वृक्ष की जड़ का पूजन कर अभिमंत्रित कर काले कपड़े में बाँधकर श्रवण नक्षत्र में विधि पूर्वक धारण करने से शनि दोष क्षीण होता है।
११- लाल चंदन या काली वैजयन्ती की अभिमंत्रित माला धारण करें।
१२- शनिवार के दिन काले उड़द, तेल, तिल, लोहे से बनी वस्तु तथा श्याम वस्त्र दान देने से शनि पीड़ा का शमन होता है।
१३- काले घोड़े की नाल को प्राप्त कर उसमें से अपनी मध्यमा अंगुली की नाप का छल्ला बनवायें। इस छल्ले का मुँह खुला रखें। शनिवार के दिन कच्चे सूत से अपनी लम्बाई नाप कर उसको मोड़कर बत्ती बनाए, इस बत्ती से तेल का दीपक प्रज्जवलित कर उसमें छल्ला डाल दें तथा निम्नलिखित मन्त्र का काली वैजयन्ती माला से ५ माला जप करें-
“ॐ प्रां प्रीं प्रौं सः शनेश्चराय नमः” मंत्र जप के उपरान्त क्रमशः जल, पंचामृत तथा गंगाजल से छल्ले को स्नान कराकर मध्यमा अंगुली में धारण करें।
१४- एक गट (सूखा नारियल) लेकर उसमें चाकू से छोटा सा गोल छेद काट लें। इस छेद से नारियल में बूरा तथा बादाम, काजू, किशमिश, पिस्ता, अखरोट या छुआरा भी गट में भरें। अब इसे पुनः बन्द कर किसी पीपल के पास भूमि के अन्दर इस प्रकार गाड़ दें की चीटियां आसानी से तलाश लें, किन्तु अन्य जानवर न पा सकें। घर लौटकर पैर धोकर घर में प्रवेश करें। इस प्रकार ८ शनिवार तक यह क्रिया सम्पन्न करें।
१५- शिवलिंग पर कच्चा दूध चढावें व “अमोघ शिव कवच” का पाठ करें।
१६- प्रत्येक शनिवार जौ के आटे से बनी गोलियाँ मछलियों को खाने को डालें।
१७- “शनि वज्रपंजर कवच” , दशरथ-कृत-शनि-स्तोत्र अथवा शनैश्चरस्तवराजः का नियमित पाठ करें।
१८- एक काला छाता, सवा किलो काले चने, सवा किलो काले तिल, काला कम्बल, तेल का दीपक शनिवार कि दिन शनिदेव के मन्दिर में दान करें।
१९- भोजन करने से पूर्व परोसी गयी थाली में से एक ग्रास निकालकर काले कुत्ते को खिलाएँ अथवा शनिवार को शाम के समय उड़द की दाल के पकौडे व इमरती कुत्ते को खिलाए।
२०- शनिवार के दिन काले कपड़े में जौ, नारियल, लोहे की चौकोर शीट, काले तिल, कच्चे कोयले व काले चने को पोटली में बांधकर बहते हुए पानी में डालना शुभ रहता है।
२१- काली गाय व काले कुत्ते को तेल से चुपड़ी रोटी, चने की दाल व गुड खिलाना लाभप्रद रहता है।
२२- दूध में शहद व गुड़ को मिलाकर वट वृक्ष को सींचे।
२३- शनिवार, अमावस्या आदि दिनों पर ‘शनि-मन्दिर’ में जाकर आक-पर्ण (मदार के पत्ते) एवं पुष्पों की माला मूर्ति पर चढ़ाएँ। एक या आधा चम्मच तेल भी चढ़ाएँ। अब मूर्ति के सामने बैठकर शान्त-चित्त से निम्न मन्त्र, मूर्ति के भ्रू-मध्य या दाहिनी आँख पर त्राटक-पूर्वक प्रेम-भाव से, ११ बार जपें-
“नीलाञ्जन-समाभासं, रविपुत्रं यमाग्रजम्। छाया-मार्तण्ड-सम्भूतं, तं नमामि शनैश्चरम्।।”
अब सूर्य-भगवान् को गायत्री-मन्त्र से एक बार अर्घ्य दें। या
“ॐ ह्रीं सूर्याय नमः” का यथा-शक्ति जप करें।
२४- ‘आक’ के कुछ पत्ते सुखाकर उसका चूर्ण तैयार करके रखें। १ चौरस १ इंच लोहे के टुकड़े पर “ॐ चैतन्य-शनैश्चरम्” यह मन्त्र खुदवा लें। यदि धनाभाव हो, तो कम से कम एक काला गोल पत्थर ले आकर उसमें ‘शनिदेव’ की भावना रख, पूजा-स्थान में रखें। ‘भगवान् शनि’ के प्रति “चैतन्य” की भावना रखनी चाहिए।
उक्त प्रतिमा को किसी थाली में रखकर उसका पूजन करें। गन्ध, हल्दी-कुंकुम और ११ उड़द चढ़ाएँ। आक के १०८ पुष्प “ॐ चैतन्य-शनीश्चराय नमः” मन्त्र से अर्पित करें। ‘आक’ के ही सूखे पत्तों के चूर्ण की धुप दें। दीप दिखाकर सुख-शन्ति हेतु ‘शनि’ की प्रार्थना करें। भोजन में उड़द के बड़ों का नैवेद्य देना चाहिए।
हर शनिवार को उक्त उपासना करें। उपासना-काल में शनिवार को नही; गुरुवार को उपवास करें। यह बात ध्यान में रखें। ‘साढ़े साती’ काल पूर्ण होने के ढाई मास बाद उपासना बन्द करें और प्रतिमा को जलाशय में विसर्जित कर दें।
शिवलिंग का यथा शक्ति पूजन करें। हो सके, जलाभिषेक करें। पाँच श्वेत पुष्प और एक बिल्व-पत्र चढ़ाएँ।
शिव-मन्त्र का जप करें, फिर प्रार्थना करें। यथा-“ॐ श्रीशंकराय नमः। श्रीकैलास-पतये नमः। श्रीपार्वती-पतये नमः। श्रीविघ्न-हर्ताय नमः। श्रीसुख-दात्रे नमः। ॐ शान्ति! शान्ति!! शान्ति!!!”
इस प्रकार प्रार्थना के शिवलिंग के सामने एक नारियल और एक मुठ्ठी गेहूँ रखें। नमस्कार कर घर वापस आएँ।
२५- शनि एवं शनि-भार्या-स्तोत्र का नित्य तीन पाठ करने से ‘शनि-ग्रह’ की पीड़ा निश्चय की दूर होती है।
यः पुरा राज्य-भ्रष्टाय, नलाय प्रददो किल।
स्वप्ने शौरिः स्वयं, मन्त्रं सर्व-काम-फल-प्रदम्।।१
क्रोडं नीलाञ्जन-प्रख्यं, नील-जीमूत-सन्निभम्।
छाया-मार्तण्ड-सम्भूतं, नमस्यामि शनैश्चरम्।।२
ॐ नमोऽर्क-पुत्राय शनैश्चराय, नीहार-वर्णाञ्जन-नीलकाय।
स्मृत्वा रहस्यं भुवि मानुषत्वे, फल-प्रदो मे भव सूर्य-पुत्र।।३
नमोऽस्तु प्रेत-राजाय, कृष्ण-वर्णाय ते नमः।
शनैश्चराय क्रूराय, सिद्धि-बुद्धि प्रदायिने।।४
य एभिर्नामभिः स्तौति, तस्य तुष्टो भवाम्यहम्।
मामकानां भयं तस्य, स्वप्नेष्वपि न जायते।।५
गार्गेय कौशिकस्यापि, पिप्लादो महामुनिः।
शनैश्चर-कृता पीड़ा, न भवति कदाचन।।६
क्रोडस्तु पिंगलो बभ्रुः, कृष्णो रौद्रोऽन्तको यमः।
शौरिः शनैश्चरो मन्दः, पिप्लादेन संयुतः।।७
एतानि शनि-नामानि, प्रातरुत्थाय यः पठेत्।
तस्य शौरेः कृता पीड़ा, न भवति कदाचन।।८
ध्वजनी धामनी चैव, कंकाली कलह-प्रिया।
कलही कण्टकी चापि, अजा महिषी तुरगंमा।।९
नामानि शनि-भार्यायाः, नित्यं जपति यः पुमान्।
तस्य दुःखा विनश्यन्ति, सुख-सौभाग्यं वर्द्धते।।१०

Posted By Lal Kitab Anmol05:10

 
भाषा बदलें
हिन्दी टाइपिंग नीचे दिए गए बक्से में अंग्रेज़ी में टाइप करें। आपके “स्पेस” दबाते ही शब्द अंग्रेज़ी से हिन्दी में अपने-आप बदलते जाएंगे। उदाहरण:"भारत" लिखने के लिए "bhaarat" टाइप करें और स्पेस दबाएँ।
भाषा बदलें