बीमारी का बगैर दवाई भी इलाज़ है,मगर मौत का कोई इलाज़ नहीं दुनियावी हिसाब किताब है कोई दावा ए खुदाई नहीं लाल किताब है ज्योतिष निराली जो किस्मत सोई को जगा देती है फरमान दे के पक्का आखरी दो लफ्ज़ में जेहमत हटा देती है

Tuesday, 20 August 2019

2019 में इस वजह से 23 को मनाई जाएगी जन्माष्टमी

अंतर्गत लेख:



lka 20/08/2019 

भाद्रपद कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को देखें तो ये 23 अगस्त को सुबह 8 बजकर 8 मिनट से 24 अगस्त को सुबह 8 बजकर 31 मिनट तक है।
Janmashtami 2019  भाद्रपद कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को देखें तो ये 23 अगस्त को सुबह 8 बजकर 8 मिनट से 24 अगस्त को सुबह 8 बजकर 31 मिनट तक है। कृष्ण जन्माष्टमी को कृष्णाष्टमी, गोकुलाष्टमी, कन्हैया अष्टमी, कन्हैया आठे, श्रीकृष्ण जयंती नामों से भी जाना जाता है। पूरे देश के अतिरिक्त जन्माष्टमी बांग्लादेश के ढाकेश्वरी मंदिर व पाकिस्तान के कराची के स्वामीनारायण मंदिर में भी धूमधाम से मनाई जाती है।
23 को जन्माष्टमी मनाने का कारण
इस बार अष्टमी तिथि और रोहिणी नक्षत्र दोनों एक साथ नहीं बन रहे हैं। 23 अगस्त की रात 12 बजे से 1 बजे तक के मुहूर्त में अष्टमी तिथि तो है, लेकिन रोहिणी नक्षत्र 24 अगस्त को सूर्यादय से पहले 03:45 बजे शुरू होगा और 25 अगस्त को सुबह 04:25 बजे समाप्त हो जाएगा, इस वजह से 23 अगस्त को ही जन्माष्टमी पर्व माना जाएगा।
इनकी करें पूजा
जन्माष्टमी पूजन में देवकी, वासुदेव, बलदेव, नंद, यशोदा और लक्ष्मी जी की पूजा विधिवत मंत्र जाप और आरती से करनी चाहिए।
दही-हांडी महोत्सव
इस अवसर पर महाराष्ट्र व गुजरात में दही-हांडी महोत्सव भी धूमधाम से मनाया जाता है। भगवान कृष्ण की नगरी मथुरा में अभी से रासलीलाओं का आयोजन शुरु हो गया है। बड़ी संख्या में भक्त राधारानी और भगवान कृष्ण के दर्शन के लिए पहुंचते हैं।

LAL Kitab Anmol

0 comments:

Post a Comment

अपनी टिप्पणी लिखें

 
भाषा बदलें
हिन्दी टाइपिंग नीचे दिए गए बक्से में अंग्रेज़ी में टाइप करें। आपके “स्पेस” दबाते ही शब्द अंग्रेज़ी से हिन्दी में अपने-आप बदलते जाएंगे। उदाहरण:"भारत" लिखने के लिए "bhaarat" टाइप करें और स्पेस दबाएँ।
भाषा बदलें